sita mata and ram ji yellow background

सीता का चरित्र – history of sita mata in hindi

Jump On Query -:

सीता का चरित्र – history of sita mata in hindi

मिथिला देश के नरेश जनक के महल में पली बड़ी सीता माता का चरित्र परम गौरव शाली हैं. वाल्मीकि जी ने अपनी रामायण में सीता के चरित्र को वर्तमान के लिए आदर्श बताया हैं. जब राजा जनक खेत में हल जोत रहे थे, तब एक कन्या हल के नीचे मिली, राजा जनक ने उस कन्या का नाम सीता रख दिता. सीता का अर्थ होता हैं – हल की नोंक. इस प्रकार इसका कोई वास्तविक प्रमाण नहीं हैं कि सीता माता के असली माता पिता कौन हैं. सीता माता दो बार वनवास गयी. रावन की लंका में माता सीता को रावन ने खूब धमकाया और डराया. लेकिन माता सीता को अपने पत्नी धर्म पर पूरा विश्वास था कि श्री राम जरूर आयेंगे. आज हम आपको माता सीता के बारे में कुछ छोटी लघु कथाएं और तथ्य बताने वाले हैं. फ़िलहाल के लिए आप ये जान लीजिये की सीता माता का जन्म कैसे जुआ?

सीता माता का जन्म कैसे हुआ

माता सीता के जन्म को लेकर अनेक पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं. कुछ तथ्यों में कहा जाता हैं की माता सीता राजा जनक की गोद ली हुई पुत्री थी. कुछ ग्रंथों में लिखा गया हैं कि माता सीता लंका नरेश रावन को पुत्री थी. इन कथाओं के अलावा भी एक अन्य कथा प्रचलित हैं.चलिए हम उसके बारे में आपको बताते हैं.
एक बार मिथिला नगर में भयंकर अकाल पड़ा. इसके निवारण के लिए ऋषि ने राजा जनक को यज्ञ करने की सलाह दी. जब राजा जनक धरती पर हल जोतने लगे तो हल की नोंक पर एक सुन्दर सोने का संदूक मिला जब जनक ने उसको खोलकर देखा तो उसके अन्दर एक छोटी कन्या थी. चूँकि राजा जनक की कोई संतान नहीं थी, इसलिए उस कन्या को हाथ में लेकर पिता प्रेम की अनुभूति हुई, और उनको हमेशा के लिए अपनी बेटी मान लिया और महल लेकर चले गये, फिर आगे चलकर उनका विवाह भगवान श्री राम के साथ कर दिया. राजा जनक की पुत्री होने के कारण इनका नाम जानकी पड़ा.

सीता माता पूर्व जन्म में कौन थी

क्या आपको पता हैं – सीता जी को वैदेही क्यों कहा जाता है?
सीता माता के जन्म से जुडी दूसरी कथा यह हैं कि सीता माता रावण की पुत्री थी. दरअसल इसका ताल्लुक सीता माता के पूर्व जन्म से हैं. पूर्व जन्म में सीता माता का नाम वेदवती था. वेदवती बेहद ही सुन्दर कन्या थी. वेदवती परम विष्णु भक्त थी, और उनको पति के रूप में स्वीकार करना चाहती थी. इसलिए वेदवती ने भगवान् विष्णु के लिए घोर तपस्या की.
एक दिन रावण उस स्थान से गुजर रहा था, जिस स्थान पर वेदवती तपस्या कर रही थी. रावन उसके रूप को देखकर उस पर मोहित हो गया, और उनको महल चलने को कहा. वेदवती ने बताया की वह यहाँ पर भगवान् विष्णु के लिए तपस्या कर रही हैं.
रावन को इस बात पर गुस्सा आ गया, और उसने वेदवती के साथ दुर्व्यवहार करने की कोशिश की. इस कारण वेदवती ने अपनी तपस्या से खुद को भस्म कर दिया. अपने अंतिम क्षण में वेदवती ने रावन को श्राफ दिया कि वह अगले जन्म में उसकी बेटी बनकर आएगी, और उसके मृत्यु का कारण भी बनेगी.
जब रावन और मन्दोदरी के संयोग से एक कन्या का जन्म हुआ तो रावन ने उसको एक संदूक में डालकर समुद्र में फेंका दिया.
समुद्र की देवी वरुनी ने उस बक्से को धरती माता को सौंप दिया. फिर धरती माता ने उस बक्से को राजा जनक और सुनैना को सोंप दिया.
तो यह थी सीता माता के पूर्व जन्म की कथा.

सीता धरती में क्यों समाई(sita mata dharti me kyu samai)

रामायण के अनुसार जब भगवान श्री राम, लक्ष्मण और सीता माता तीनो जब वनवास से अयोध्या लौटे और जब उनका राज्याभिषेक किया जा रहा था तब किसी धोबी ने सीता के चरित्र पर अंगुली उठाई. तत्पश्चात सीता माता को श्री राम से अलग होन पड़ा, और वन में जाकर रहना पड़ा था. इसी को सीता माता का दूसरा वनवास कहा जाता हैं.
जब अश्वमेध यज्ञ किया जा रहा तब लव कुश ने सभी को बंदी बना लिया. और जब लव कुश ने भगवान् श्री राम के दरबार में उन्ही की गाथा सुनाई तब भगवान् श्री राम को अहसास हुआ की ये दोनों उन्ही के पुत्र हैं. सीता माता और श्री राम का पुन मिलन भी वहीँ पर हुआ.
वाल्मीकि भी वहीँ पर हाजिर थे. उस वक्त भी सीता के चरित्र पर लोग लांछन लगाते थे, तब वाल्मीकि अति दरिद्र अवस्था में रोते हुए भगवान् राम को बोले. मैंने अपने जीवन में कभी झूठ नहीं बोला, सीता वहीँ पवित्र स्त्री हैं जिनको आप मिथिला देश से लेकर आये थे. आप इनकी परीक्षा मत लीजिये.
लेकिन जब दरबार ने सीता से उनके चरित्र का प्रमाण माँगा तो सीता माता ने ये कहा – अगर मेरा चरित्र पवित्र हैं तो इसी क्षण में धरती में समा जाउंगी. ठीक उसी क्षण धरती फट गई, और धरती के गर्भ से मां पृथ्वी आई. मां पृथ्वी सीता माता को अपनी गोद में लेकर वापस अन्दर समा गई.

सीता लंका में कितने दिन रही थी

यह विषय विवाद से ग्रस्त हैं. इस विषय पर सभी के अलग अलग मत हैं. कुछ का मानना हैं कि सीता माता 11 मास लंका रुकी थी. कुछ विद्वान 435 दिनों को सही ठहराते हैं. अनुमानित आंकड़ो के अनुसार एक वर्ष के आस पास का समय उचित ठहराया जा सकता हैं. जब सीता माता लंका से वापस आई तब उनकी उम्र लगभग 33 वर्ष थी.

रावण ने सीता को क्यों नहीं छुआ

दरअसल रावन को श्राप था की अगर उसने सीता माता को छु लिया तो उसके सर के सौ टुकड़े हो जायेंगे. रामायण की घटना त्रेतायुग की हैं. रावन को नल कुबेर ने श्राप दिया की अगर वह इस युग में किसी भी स्त्री को बिना अनुमति गलत नियत से छुयेगा, तो उसका विनाश हो जायेगा. इसलिए रावन अपने श्राप के कारण किसी भी स्त्री को न छूने के लिए विवश था.

इन कहानियों को भी पढ़े -:

शबरी की कहानी – एक वचन पर जीवन का किया समर्पित

रावन के जन्म और जीवन से जुडी पौराणिक कथाएं

क्या आप जानते हैं नारियल की पौराणिक कथा क्या हैं

आपने क्या सीखा…

सीता माता का जीवन दर्शन आज के समाज को यह सीख देता हैं कि – एक सच्ची पतिव्रता स्त्री कभी अपने चरित्र और स्वाभिमान पर लांचन नहीं लगने देती हैं. एक राजा के घर पली बड़ी कन्या, एक चक्रवर्ती राजा की बेटी, एक शूरवीर राजकुमार की पत्नी, जो हमेशा अपने स्वामी के पीछे पीछे चलती हैं. जब अज्ञानी समाज में सीता पर मिथ्या आरोप लगाया तो अपने स्वाभिमान की रक्षा के लिए जंगल में चली गई, जहाँ खुद के लिए धान पिसती हैं, चक्की चलाती हैं, वन से लकड़ियाँ काटकर लाती हैं. और अपने वीर पुत्रो को स्वावलंबी बनने की शिक्षा देती हैं. इसके बाद जब एक बार फिर समाज ने चरित्र प्रमाण माँगा तो माता सीता धरती में समां गयी. तो यह था सीता माता का जीवन दर्शन और उनके जीवन से जुड़े कुछ किस्से. अगर आपको ये किस्से अच्छे और ज्ञानवर्धक लगते हैं तो दुसरे कहानियों को भी पढ़ सकते हैं.

3 thoughts on “सीता का चरित्र – history of sita mata in hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.