Skip to content

जल्दी बुलाकर लाओ – अकबर बीरबल की बुद्दिमानी की कहानी

king and servent cartoon and text

‘अकबर बीरबल की कहानी – जल्दी बुलाकर लाओ

‘अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां’ में आप पढने जा रहे हैं – जल्दी बुलाकर लाओ

एक सुबह बादशाह उठते ही अपनी दाढ़ी खुजाते हुए बोले! कोई है…? तभी एक सेवक जल्दी से दोड़कर आया और हाजिर हुआ. जी हुजुर…! बादशाह ने कहा, जाओ… जल्दी जाओ उसे बुलाकर लाओ… और हाजिर करो. सेवक और दासों के कुछ समझ मे कुछ नही आया किसे बुलाकर लाए किसे हाजिर करे. बादशाह से पलटकर सवाल करने की उसकी हिम्मत भी किसी की नही हुई. इस बात को उस सेवक ने दुसरे सेवक को बताई, दुसरे ने तीसरे को और तीसरे ने चौथे को बताई. इस प्रकार सभी सेवक यह बात जान गए और सभी उलझन मे पड़ गए. और सोचने लगे की किसे बुलाएं और किसे हाजिर करे!

बीरबल सुबह घुमने गये थे. बादशाह के निजी सेवकों को भागते देख बीरबल ने सोच लिया की जरूर बादशाह ने कोई अनोखा काम बता दिया होगा, जो इनकी समझ से बाहर है.
बीरबल ने एक सेवक को बुलाकर पुछा …अरे यह भाग दौड़ किस लिए हो रही हैं.
सेवक ने बीरबल को पूरी बात बताई… महाराज हमारी रक्षा करे. हम समझ नही पा रहे कि किसे बुलाना हैं? अगर जल्दी नही बुलाया तो हम पर आफत आ जाएगी. बीरबल कुछ समय के लिए चुप हो गए. सेवक ने पुछा महाराज… क्या करे?

बीरबल ने कहा! अच्छा ये बताओ हुक्म देते समय बादशाह क्या कर रहे थे. बादशाह के निजी सेवक जिसको बादशाह ने हुख्म दिया था, उसको हाजिर किया गया. तो सेवक ने बताया जिस समय नुझे तलब किया उस वख्त बादशाह बिस्तर पर बैठे अपनी दाढ़ी खुजा रहे थे. बीरबल तुरंत पूरी बात समझ गये और उनके होंठो पर मुस्कान भर आई. फिर उन्होंने उस सेवक को कहा… तुम हजाम को ले आओ.

सेवक हजाम को ले आया और बादशाह के सामने पेश कर दिया. बादशाह सोचने लगे… मैंने इसे तो ये बात बताई ही नही की किसे बुलाकर लाना है? फिर यह हजाम को लेकर कैसे हाजिर हो गया?
बादशाह ने सेवक से पुछा? सच बताओ! हजाम को तुम अपने मन से लेकर आये हो या फिर किसी ने ले आने का सुझाव दिया. सेवक गबरा गया, लेकिन बिना बताये छुटकारा भी कहा मिलने वाला था. सेवक ने बता दिया कि… जहापनाह ये सुझाव तो बीरबल महाराज ने हमको दिया. बादशाह बीरबल की बुद्धि से प्रसन्न हुए और उनको इनाम से भी नवाजा.

इस अकबर बीरबल के किस्से(akbar birbal kahaniya) – “जल्दी बुलाकर लाओ” से हमने क्या सिखा – कभी कभी किसी मसले को सही ढंग से परखना ही उसका निदान होता हैं.

तो यह थी ‘अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां‘ की एक रोचक और मजेदार कहानी. एसे ही हिंदी कहानियां अपनी मेल में प्राप्त करने के लिए हमारे हिंदी कहानियां के पेज को subscribe करे. आप नीचे दिए गये बॉक्स में भी अपना विवरण भर सकते हैं.

बीरबल अकबर का दरबारी कैसे बना – नौरत्न

और दूसरी “हिंदी कहानियां” पढने के लिए यहाँ पर क्लिक करे – {क्लिक और हिंदी कहानियां पढ़े}

Leave a Reply

Your email address will not be published.