Skip to content

चरणजीत सिंह चन्नी – पंजाब के मुख्यमंत्री का जीवन परिचय(बायोग्राफी)

a man in bio pic

श्री चरणजीत सिंह चन्नी बायोग्राफी -: इस पोस्ट में हम जानने वाले हैं कि 2021 में पंजाब के नए मुख्यमंत्री श्री चरणजीत सिंह चन्नी कौन है? और उनकी जीवनी क्या है(charanjit singh channi biography in hindi)? चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के नए मुख्यमंत्री हैं, इनके पहले अमरिंदर सिंह पंजाब के मुख्य मंत्री थे.

नामचरणजीत सिंह चन्नी
जन्म1 मार्च 1963
आयु58 वर्ष(2021)
जन्म स्थानमकरोना कला चमकौर साहिब(पंजाब)
राष्ट्रीयताभारतीय
पिता का नामहर्ष सिंह
माता का नामअजमेर कौर
पत्नी का नामकमलजीत कौर
बच्चेनवजीत सिंह, रिद्हम सिंह
प्रारंभिक शिक्षाखालसा उच्च माध्यमिक विद्यालय, खारर
कॉलेजपंजाब यूनिवर्सिटी, पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय
शैक्षणिकयोग्यता BA, LLb, MBA, पीएचडी
जातिरामदासिया समुदाय (अनुसूचित जाति)
नेटवर्थ14.50 करोड़
पेशाप्रथम दलित मुख्यमंत्री(पंजाब) राजनेता बिजनेसमैन
राजनीतिक दलभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
Charanjit Singh Channi Biography

चरणजीत सिंह चन्नी बायोग्राफी(Charanjit Singh Channi Biography in hindi)

चरणजीत सिंह चन्नी कौन है? -: श्री चरणजीत सिंह चन्नी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की पंजाब पीठ के प्रमुख नेता हैं, जिन्हें सितम्बर 2021 में पंजाब का नया मुख्यमंत्री बनाया गया है। ये पंजाब के 16वें मुख्यमंत्री हैं.
चरणजीत सिंह राजनीति में कोई नया चेहरा नहीं है . वे कैप्टन अमरिंदर साहब की सरकार के पूर्व तकनीकी शिक्षा मंत्री भी रह चुके हैं.
चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले ऐसी मुख्यमंत्री है जो एक दलित समुदाय से संबंधित हैं. उन्होंने 20 सितंबर 2020 को पंजाब भवन में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। शपथ के दौरान मोटरसाइकिल पर बैठ कर आए थे.

चरणजीत सिंह चन्नी का जन्म व परिवार

चरणजीत सिंह चन्नी के पिताजी एक गरीब परिवार से थे। जब वे युवा थे तब उनका परिवार मलेशिया शिफ्ट हो गया था। वहां उन्होंने कड़ा संघर्ष किया। इनका जन्म 1 मार्च 1963 को चमकौर साहिब(पंजाब) के मकराना कला गांव में हुआ था. उनके पिता का नाम हर्ष सिंह जी और माता का नाम लते अजमेर कौर उनकी पत्नी का नाम कमलजीत कौर है, जो कि एक डॉक्टर हैं.
उनके दो पुत्र हैं। नवजीत सिंह और रिदम सिंह सिंह.

मलेशिया से उनका परिवार पुन: भारत लौटा यहाँ रहकर उन्होंने टेंट हाउस का व्यवसाय किया। चरणजीत सिंह भी अपने पिता के काम में हाथ बटाते थे। कुछ समय बाद इनके पिता गांव के सरपंच बने तथा ब्लॉक समिति के सदस्य बने.

networth

चरणजीत सिंह चन्नी कि नेटवर्क 14.50 करोड़ हैं(फ्रॉम नेट).

चरणजीत सिंह शिक्षा

चरणजीत सिंह चन्नी की प्रारंभिक शिक्षा अपने गांव के एक सरकारी स्कूल से हुई. बाद में उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से एलएलबी किया. इसके बाद जलंधर यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. साथी वे अभी पंजाबी यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहे हैं। उनका कहना है कि मैं पढ़ता हूं क्योंकि मुझे पढ़ना अच्छा लगता है।
चरणजीत सिंह जी पढाई में तो अच्छे हैं ही साथ ही वे भांगड़ा और हैण्ड बॉल खेलने में भी एक्सपर्ट हैं। उन्होंने हैंडबॉल प्रतियोगिता में पंजाब यूनिवर्सिटी से तीन बार प्रतिनिधित्व किया था. कॉलेज के समय में एनसीसी, एनएसएस और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेते रहते थे।
कॉलेज के दौरान उन्होंने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी मे एवं जेनरल सेक्रटरी ऑफ़ पंजाब यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता के रूप में कार्य किया.

चरणजीत सिंह का राजनीतिक कैरियर

चरणजीत सिंह चन्नी का राजनीतिक कैरियर 2002 में शुरू हुआ। जब उन्होंने 14वीं पंजाब विधानसभा के विपक्ष के नेता के रूप में चुने गए. उन्होंने 2 साल तक मुंसिपल परिषद के अध्यक्ष के रूप में कार्य भी किया।
साल 2007 में चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब विधानसभा के सदस्य चुने गए।
उसके बाद दोबारा साल 2012 को 2017 में चमकौर साहिब से विधानसभा सदस्य चुने गए.

साल 2007 में विपक्ष के नेता बनने के बाद उन्होंने शिरोमणि अकाली दल की सदस्यता ग्रहण की. लेकिन अमरिंदर साहिब की सहायता से वे साल 2010 पुनः कांग्रेस में शामिल हो गए।
साल 2010 में कांग्रेस में पुन: लौटने के बाद उन्होंने राहुल गांधी से अच्छे संबंध बनाने की कोशिश की।
16 मार्च 2017 को चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब में तकनीकी शिक्षा मंत्रालय का पदभार सौंपा गया।
18 सितंबर 2021 पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दे दिया।
19 सितंबर 2021 को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने tweetr पर यह घोषणा की कि पंजाब के 16 मुख्यमंत्री श्री चरणजीत सिंह चन्नी होंगे।

विवाद

2018 में एक आईएएस अधिकारी का ट्रांसफर करा दिया था, क्योंकि वह उनको पसंद नहीं था। इस कारण चरणजीत सिंह चन्नी जी काफी विवादों से घिरे थे। 2018 में ही इन पर एक लेडी आईएस अधिकारी कविता सिंह को ग़लत मेसेज भेजने के के लिए मी टू अभियान के तहत आरोप लगाया था.

इसे भी पढ़े -: mahatma gandhi biography

Leave a Reply

Your email address will not be published.