Skip to content

दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें(dukan ka registration kaise kare)

Dukan-ka-registration-kaise-kare

दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें (dukan ka registration kaise kare) – आप एक नयी दुकान खोलने की सोच रहे हैं या फिर आपकी कोई पहले से ही दुकान हैं. और आपने अभी तक दुकान का रजिस्ट्रेशन नहीं करवाया हैं तो आपको उस दुकान का गुमास्ता पजीकरण यानी की शॉप रजिस्ट्रेशन करवा लेना चाहिए. इस आर्टिकल के माध्यम से मै आपको दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करे (dukan ka registration kaise kare) बताने वाला हूँ.

यदि आप भारत में कोई दुकान शुरू करने वाले हैं तो आपको 30 दिनों के अन्दर लाइसेंस का आवेदन कर लेना चाहिए. लाइसेंस में आपका नाम, आपकी दुकान का नाम, दुकान की केटेगरी, दुकान में काम करने वाले कर्मचारियों की संख्या इन सभी विवरण को भरना होता हैं.

क्या आपको पता हैं कि दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें? तो यहाँ आपको क्लियरली जानने को मिलेगा कि दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें? चलिए जानते हैं कि दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें

शॉप एंड एस्टाब्लिश एक्ट के तहत अगर कोई लाभ कमाने के लिए किसी दुकान या किसी भी तरह का कोई स्टोर शुरू करता हैं. तो उसको दूकान का रजिस्ट्रेशन करवाना आवश्यक हैं. यहाँ आपको सभी तरह की दुकानों के लिए जैसे – ज्वैलरी, किराना स्टोर या और कोई अन्य प्रकार की दुकानों के लिए रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस बताया गया है. 

दुकान के रजिस्ट्रेशन के लिए हमने स्टेट के हिसाब से कुछ ऑफिसियल वेबसाइट की लिनक्स भी दिए हैं. आप अपने फ़ोन से ही सरकारी फीस में दुकान का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

गुमास्ता रजिस्ट्रेशन के लिए आपको अपने स्टेट की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना पड़ेगा. वहां आपको डाक्यूमेंट्स की list मिल जाएगी. डॉक्यूमेंटस के साथ साथ आपको वहां पर form को कैसे भरना हैं, इसकी जानकारी भी दी जाएगी.

इसलिए आपको सबसे पहले अपने डाक्यूमेंट्स को रेडी करने हैं. उसके बाद आप दुकान के रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं. अपने स्टेट के अनुसार आप इस list में से लिंक को चुनकर दूकान का रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

List फॉर 10 15 स्टेट्स राजस्थान बिहार हरियाणा उत्तर ,मध्य उतराखंड, पाशीं बंगाल , च्तिस्ग्ध महाराष्ट्र कर्नटक तमिल नाडू  तेलगाना पंजाब

दुकान के रजिस्ट्रेशन के लिए कौन कौनसे डाक्यूमेंट्स लगते हैं ?

  • आपका आधार कार्ड, पेन कार्ड, या वोटर आईडी(not all)
  • आपका नवीनतम पासपोर्ट साइज़ की फोटो
  • रजिस्ट्रेशन फीस
  • एड्रेस प्रूफ राशन कार्ड, पानी, बिजली का बिल, गैस बिल, या टेलीफोन बिल में से कोई भी इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • रेंटल अग्रीमेंट(रेंटल अग्रीमेंट 500 रूपये से अधिक स्टाम्प पर ही बनाये, कम होने पर form रिजेक्ट हो सकता हैं)
  • अगर दुकान पार्टनरशिप में हैं तो आपको पार्टनरशिप अग्रीमेंट भी प्रस्तुत करना होता हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कुछ राज्यों में राज्य सरकार की तरफ से राज्य में विशेष कार्ड बनाये जाते हैं. ऐसे में आपको उस कार्ड से भी रजिस्ट्रेशन का मौका दिया जा सकता हैं. जैसे राजस्थान में दुकान के रजिस्ट्रेशन के लिए भामाशाह कार्ड से भी किया जा सकता हैं. बिजनेस रजिस्ट्रेशन करने का यह दूसरा तरीका हैं.

एक बार जब आप सभी डाक्यूमेंट्स को रेडी कर देते हैं तो आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होता हैं.

ऑफिसियल वेबसाइट पर आने के बाद आपको एक लिंक मिलेगी जिस पर लीखा होता हैं – शॉप एंड एस्टाब्लिशमेंट एक्ट 1958. आपको इस लिंक पर जाकर आगे की प्रक्रिया पूरी करनी होती हैं.

ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर दुकान रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करे

अपने राज्य के अनुसार ऑफिसियल वेबसाइट पर जाइये, वहां आपको डाक्यूमेंट्स की list मिलेगी. आप उनको भली भांति पढ़ सकते हैं.

वहां से आपको रजिस्ट्रेशन लिंक पर क्लिक करना होता हैं. यहाँ आपको चालान का विवरण भी मिल जाता हैं. यहाँ से शुरू होती आपकी दुकान के रजिस्ट्रेशन की असली प्रक्रिया. अब आपको new रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना हैं. 

अब यहाँ आपको एक पूरा form दिख जायेगा. आपको इस form पर जिसके नाम की दुकान हैं, उसके अनुसार सभी जानकरी भरनी हैं. यहाँ आपको सभी जानकारी सावधानी से भरनी हैं.

  • आपकी दुकान हैं या कम्पनी, आप पार्टनरशिप में हैं या अकेले ओनर हैं. यहाँ पर आपको शॉप एड्रेस देना होता हैं.
  • आपको अपनी दूकान का नाम भी यहाँ डालना होता हैं. यहाँ आपको अपनी दुकान की केटेगरी सेलेक्ट करनी होती हैं.
  • दुकान की केटेगरी के अनुसार आपको अन्य लाइसेंस के लिए भी अप्लाई करना पड़ सकता हैं.
  • आपकी दूकान पर कितने आदमी काम करने वाले है, इसका विवरण भी सही तरीके से दे.
  • यहाँ आपको बिजेनस की केटेगरी और दूकान पर काम करने वाले लेबर के अनुसार शुल्क पे करना होता हैं. या आपने शुल्क को पहले ही पे कर दिया हैं तो चलन नंबर को यहाँ डालना होता हैं.
  • कुछ स्टेट्स में यहाँ एक form को download करने को कहा जाता हैं उसको download कर उस पर राईट मार्क कर sign करने होते हैं. इसके बाद इसको स्कैन कर वापस अपलोड करना होता हैं.
  • अब आपको इसी पेज पर supporting डाक्यूमेंट्स को अपलोड करने होते हैं.
  • अपनी सभी बेसिक जानकारी भरने के बाद सबमिट करना होता हैं.

सबमिट करने के बाद एक पेज पर आपको एक रिसिप्ट(रशीद) मिलती हैं. आपको इसे ऑनलाइन सेव कर लेना हैं. इसी रशीद के जरिये आप अपनी ऑनलाइन स्टेट्स को चेक कर सकते हैं.

गुमास्ता पंजीकरण की ऑनलाइन स्टेट्स को दखने के लिए होम पेज पर ट्रैश पर क्लिक करें, वहां रजिस्ट्रेशन नंबर डालकर अपनी गुमास्ता पंजीकरण की स्टेट्स को चेक कर सकते हैं. एक बार जब आपका रजिस्ट्रेशन कम्पलीट हो जायेगा तो आप अपने लाइसेंस को download कर सकते हैं. और इसे प्रिंट कर अपन पास रख सकते है.

आपने दुकान का रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करना तो सीख लिया है. इसके अलावा दुकान रजिस्ट्रेशन के बारे में कुछ बेसिक जानकारी भी होनी चाहिए. जो निम्नलिखित है.

शॉप एंड एस्टाब्लिशमेंट एक्ट क्या है?

भारत देश के प्रत्येक राज्य में बिजनेस और दुकान को लेकर कुछ कानून और शर्तें बनायीं गयी हैं, इन कानूनों का मुख्य उद्देश्य यह हैं कि किसी तरह से समानता बनी रहे और सभी को सामान लाभ प्राप्त हों.

दुकान अधिनियम 1958 के तहत पंजीकरण करना क्यों आवश्यक हैं?

दुकान अधिनियम 1958 के तहत पंजीकरण करना इसलिए आवश्यक हैं कि जब कभी आपको अपनी दुकान के लिए कोई लोन लेना हो या किसी सरकारी सब्सिडी का लाभ लेना हैं तो आपके पास दुकान का लाइसेंस होना चाहिए.

अगर कभी किसी आपदा में दुकान को क्षति होती हैं तो लाइसेंस होने कि स्थिति में सरकार की तरफ से मुआवजा भी पेश किया जा सकता हैं.

क्या पूरे भारत में एक ही बिजनेस एक्ट लागु होते हैं?

नहीं! दुकानों के लेकर हर स्टेट के अलग अलग प्रावधान हैं. कंपनी के रजिस्ट्रेशन के लिए कंपनी अधिनियम 2013 का पालन किया जाता हैं तो वहीँ दुकान के रजिस्ट्रेशन के लिए शॉप एंड एस्टाब्लिशमेंट एक्ट 1958 नियम का पालन कियाजाता हैं. अगर कोई महाराष्ट्र में दुकान चला रहा हैं तो वहां के लिए शॉप नियम 2018 का पालन किया जाता हैं. इसलिए अगर किसी को दुकान के लिय रजिस्ट्रेशन करवाना होता हिं तो अपने स्टेट की ऑफिसियल announcement को follow करना चाहिए. 

दुकान अधिनियम में किस प्रकार दुकाने शामिल होती हैं?

होटल, restaurant, जनरल स्टोर, ज्वेलरी शॉप जैसे अन्य कमर्शियल परिसरों को शामिल किया जाता हैं.

दुकान अधिनियम के लिए किसे पंजीकरण करने की आवश्यकता है?

शॉप नियम से यह स्पष्ट हो जाता है कि कोई भी व्यवसाय जो वाणिज्यिक कार्यालय के बाहर ग्राहकों को सामान या सेवाएं बेचने में शामिल है, पंजीकरण के लिए उत्तरदायी होते हैं.

जो व्यवसायी अपनी दुकान एक माध्यम से ग्राहकों को सेवाएं बेचते हैं उनको दुकान का रजिस्ट्रेशन करवाना चाहिए.

ये भी जाने!

Business registration kaise kare

ई श्रम कार्ड कैसे बनाए, इसके क्या फायदे है

Kirana store items list in hindi

क्या पूरे देश के लिए शॉप रजिस्ट्रेशन का कोई एक कानून है?

दुर्भाग्य से ऐसा कोई कानून नहीं हैं. भारत में हर राज्य के लिए अलग प्रावधान हैं.

महाराष्ट्र में बॉम्बे शॉप्स एंड एस्टैब्लिशमेंट एक्ट, 2018 के तहत दुकाने रजिस्टर करवाई जाती हैं. दिल्ली में शॉप्स एंड एस्टैब्लिशमेंट एक्ट, 1954 और कर्नाटक शॉप्स एंड एस्टैब्लिशमेंट एक्ट, 1961 के तहत किया जाता हैं.

इसलिए पंजीकरण करने से पहले, आपको लागू होने वाले कानून की जांच कर लेनी चाहिए जो आपके स्टेट गवर्नमेंट ने निर्धारित किये होते हैं.

आपने क्या सीखा “दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें”

यहाँ हमने आपको विस्तार से बताया कि कैसे आप आप घर से ही दूकान के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. यहाँ हमने बहुत आसान शब्दों में समझाने की कोशिश की हैं. अगर आपको कोई सवाल का जवाब चाहिए तो आप कमेंट बॉक्स में मेंशन कर सकते हैं.

1 thought on “दुकान का रजिस्ट्रेशन कैसे करें(dukan ka registration kaise kare)”

Leave a Reply

Your email address will not be published.