Skip to content

बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे – Business registration kaise kare

बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे

बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे(Business registration kaise kare) – अगर आप एक बिजनेस मेन हैं या फिर एक नया बिजनेस शुरू करने वाले हैं तो आपको भी पता होगा कि लाइसेंस कितना इम्पोर्टेन्ट हैं. किसी भी बिजनेस को सुचारू रूप से चलाने के लिए लाइसेंस बहुत जरूरी होता हैं. लेकिन सभी को यह पता नहीं होता हैं कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे(business registration kaise kare). तो आज इस पोस्ट में हम जानेंगे कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे(Business registration kaise kare)

बिना लाइसेंस के बिना हम अपने बिजनेस को लीगली प्रूफ नहीं कर पाते हैं.

तो आपके मन में भी जिज्ञासा होगी कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे?, लाइसेंस कैसे बनाया जाता हैं?, लाइसेंस कि टर्म और कंडीशन क्या होती हैं?, लाइसेंस के लिए क्या डॉक्यूमेंट लगते हैं? किस बिजनेस के लिए कोनसा लाइसेंस चाहिए?

तो इस पोस्ट में आपको जानने को मिलेगा कि किस बिजनेस के लिए कौनसे लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं? और कौनसे लाइसेंस के लिए क्या डॉक्यूमेंट लगते हैं? कौनसा लाइसेंस कौनसे डिपार्टमेंट से लेना चाहिए?.

Jump On Query -:

Business registration kaise kare

इस पोस्ट में हम बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे(Business registration kaise kare) के साथ साथ यह भी जानेंगे कि कोई छोटा बिजनेस जैसे पानीपूरी या चाट पकोड़ी वाले या समोसे वाले हो या कोई कपड़े की दूकान वाले हो या या चप्पल बनाने वाले हैं, या कोई कंपनी हैं या किसी भी प्रकार का बिजनेस हो. यहाँ हम सभी के बारें में जानेंगे कि उन बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

यहाँ आपको सभी प्रकार के बिजनेस के लाइसेंस के बारें में जानकारी मिल जाएगी? उस लाइसेंस के लिए क्या डॉक्यूमेंट लगता हैं क्या फीस हैं? इसके बारे में विस्तार से जानेंगे

MSME से बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करवाएं

आप चाहे किसी भी प्रकार का बिजनेस कर रहे हो चाहे आपका बिजनेस छोटा हो या कोई बड़ा बिजनेस हों. गवर्नमेंट की जानकारी के लिए या स्वयं को सही तरीके से बिजनेस चलाने के लिए हमें MSME से रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी होता हैं. जब आप उद्योग आधार वेबसाइट पर जाते हैं तो आपको अपनी बिजनेस प्रोफाइल के अनुसार बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करवाना होता हैं. इसके लिए कोई चार्ज देने की जरुरत भी नहीं हैं. इसके बाद आपके बिजनेस की प्रोफाइल और केटेगरी के अनुसार यह तय किया जाता हैं कि उसके लिए क्या क्या लाइसेंस की जरुरत होगी. क्या क्या noc लगेगा?  क्या डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होगी और कौनसे डिपार्टमेंट से लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन करवाना होता हैं?. चलिए आगे और विस्तार से जानते हैं कि बिजनेस ले लिए gst रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

बिजेनस के लिए gst रजिस्ट्रेशन

आप अगर नया बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करवाने जा रहे हैं तो आपके दिमाग में यह जरूर आया होगा कि – क्या नए बिजनेस के लिए gst रजिस्ट्रेशन करवाना आवश्यक होता हैं?

तो इसका उतर हैं, जी बिलकुल नए बिजनेस के लिए gst बहुत महत्वपूर्ण होता हैं, लेकिन इसके लिए भी एक क्राईटेरिया हैं.

अगर आप कोई बिजनेस एक स्टेट में कर रहे हैं, और बिजनेस ऑफलाइन है. साथ ही आपके बिजनेस का टर्नओवर 20 लाख से कम हैं तो आपको किसी भी प्रकार के gst की आवश्यकता नहीं हैं.

यदि आपका टर्नओवर 20 लाख से ज्यादा हैं भले ही आप एक स्टेट में बिजनेस कर रहे हैं आपको gst का रजिस्ट्रेशन करवाना होता हैं.

यदि आपका कोई प्रोडक्ट किसी एक स्टेट से दुसरे स्टेट में जाता है तो भी आपको gst रजिस्ट्रेशन करवाना होता हैं. भले ही आपका टर्नओवर 20 लाख से कम हो या ज्यादा.

यदि आपका कोई ऑनलाइन सेल्लिंग कर रहे हैं तो आपको gst रजिस्ट्रेशन अनिवार्य हैं इसके लिए भी टर्न ओवर मायने नहीं रखता.

फ़ूड बिजनेस रजिस्ट्रेशन

आपका बिजनेस और profile ही तय करता हैं कि किस लाइसेंस कि आवश्यकता होती हैं. अगर आप कोई खाने पीने से रिलेटेड कोई बिजनेस कर रहे हैं जैसे चाट थैला या होटल हो या कोई रेस्टोरेंट हो या किराने स्टोर वाले हैं तो फ़ूड लाइसेंस जरुरी हैं. लेकिन जब आप फ़ूड लाइसेंस के लिए अप्लाई करते हैं तो इसके लिए एक शर्त हैं कि आपका टर्नओवर 12 लाख से ज्यादा होना चाहिए.  अगर आपका टर्न ओवर इससे कम हैं तो आपको फ़ूड लाइसेंस की जरुरत नहीं होती है, इस स्थिति में आपको केवल फ़ूड रजिस्ट्रेशन कवना होता हैं.

फ़ूड रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करवाया जा सकता हैं. इसेक लिए form को भरकर कुछ फीस देकर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं.  

शॉप एस्टाबलिन्स्मेंट रजिस्ट्रेशन

अब बात करते हैं, जो लोग एक दूकान के लिए लाइसेंस बनवाना चाहते हैं. दूकान चाहे कपड़े कि हो या चप्पल की यह सभी प्रकार की दुकानों के लिए लागू होती हैं.

इस प्रकार जो बिजनेस दुकान लगाकर किये जाते हैं, उनके लिए शॉप एस्टाबलिन्स्मेंट रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती हैं. ये रजिस्ट्रेशन बिलकुल फ्री है. और यदि इसमें लाइसेंस की बात करें तो ट्रेड लाइसेंस कीई आवश्यकता होती हैं. ट्रेड लाइसेंस स्टेट गवर्नमेंट का मुंसीपाल कारपोरेशन इसको रजिस्ट्रेशन हैं. मुंसीपाल कारपोरेशन ही परमिशन देता हैं.

शॉप बिजनेस के लिए ट्रेड लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन

ट्रेड लाइसेंस को बिजनेस को स्टार्ट करने से 30 दिनों के अन्दर ही इसको अप्लाई करना जरूरी हैं. अन्यथा आपको पेनल्टी देनी पड़ सकती हैं. ट्रेड लाइसेंस स्टेट गवर्नमेंट का मुंसीपाल कारपोरेशन रजिस्ट्रेशन करता हैं.

अगर किसी कारण से कोई बिजनेस अच्छा नहीं चल रहा हैं, या कोई अपना बिजनेस बंद करना चाहता हैं तो 15 दिनों के पूर्व इसके लिए अप्लाई करना होता हैं.

इस प्रकार से कोई छोटे लेवल के बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं.

 तो इस प्रकार जो लोग रोड साइड पर या किसी एक स्थान पर बिजनेस कर रहे हैं, उनको शॉप एस्टाबलिन्स्मेंट रजिस्ट्रेशन, ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं.

BIS लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन

इसके बाद यदि आपका कोई प्रोडक्ट कोई मापतौल में खरा उतरता हैं तो जैसे सोना कहानी या दूध का बिजनेस कर रहे हैं तो आपको BIS(ब्यूरो ऑफ़ इंडियन स्टैण्डर्ड) का लाइसेंस अनिवर्य रूप से लेना होता हैं.  

बिजनेस के लिए noc का रजिस्ट्रेशन करवाएं

इसके अलावा अगर कोई ऐसा बिजनेस कर रहे हो पर्यावरण को डिस्टर्ब कर रह हैं, या कोई पब्लिक को डिस्टर्ब कर रह हैं, जैसे पटाखे तो आपको NOC लेने की आवश्यकता होती हैं.

बिल्डिंग परमिट का लाइसेंस ले

अगर कोई बिजनेस किसी बिल्डिंग के ऊपर कर रहा हैं तो इसके लिए बिल्डिंग परमिट की आवश्यकता होती हैं.

इस तरह से ये सभी बिजनेस प्रोफाइल पर निर्भर करता हैं कि आपको कौन कौन से अतिरिक्त लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं.

टेम्परेरी बिजनेस के लिए बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे कराये

कई बार लोगों के दिमाग में यह सवाल आता हैं कि दीपावली के समय पटाखों के बिजनेस के लिए कौनसा लाइसेंस रजिस्ट्रेशन करवाएं? इस तरह के बिजनेस शोर्ट टर्म बिजनेस की केटेगरी में आते हैं. जैसे राखी के समय राखी का बिजनेस, दीपावली के समय दीपक मोमबत्ती बिजनेस या पटाखे का बिजनेस या गणेश चतुर्थी के समय मूर्तियों का बिजनेस टेम्पररी बिजनेस की केटेगरी में आते हैं. इस तरह के बिजनेस के लिए भी ट्रेड लाइसेंस लिया जाता हैं. यह लाइसेंस कुछ समय के लिए होता हैं.

ट्रेड लाइसेंस के बारें में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

पहला अगर कोई बिजनेस एक ही फिक्स लोकेशन पर चल रहा है. तो उनको ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं.  

दूसरा, अगर कोई अपना फिक्स लोकेशन फ़ूड बिजनेस चला रहे हैं तो उनको फ़ूड लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन करवाना होता हैं. इस स्थिति में उनको अलग से ट्रेड लाइसेंस को रजिस्ट्रेशन करने की आवश्यकता नहीं होती हैं.

फिक्स लोकेशन के लिए शॉप एस्टाबलिन्स्मेंट रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती हैं.

इनके अलावा आपको किसी अन्य लाइसेंस की जरूरती नहीं होती हैं, यदि आपका बिजनेस NOC को दिक्कत नहीं कर रहा हैं.

अब तक आप यह समझ गए होंगे कि स्माल बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे. चलिए अब बात करते हैं की कंपनी एक यूनिट कि जो किसी प्रोडक्ट का निर्माण करती हैं तो इनके लिए बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे. 

अगर यह भी स्टेट गवर्नमेंट के क्राइटेरिया में आ रही हैं जैसे कोई प्लांट किसी एक स्थान पर ही हैं, या एक प्रोडक्ट का निर्माण कर रही हैं तो इसके लिए भी ट्रेड लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं.

कंपनी के बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे कराये

अब बात करते हैं कि किसी कंपनी के लिए बिजनेस के लाइसेंस का रजिस्ट्रेशन कैसे करवाए? अगर कोई कंपनी किसी प्रोडक्ट का निर्माण कर रही हैं या कोई लार्ज स्केल का बिजनेस कर रह रहे या कोई मैन्युफैक्चरिंग का बिजनेस कर रहे हैं तो इसको कुछ अलग से लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं.

अगर ये बिजनेस भी छोटे लेवल पर होते हैं तो इनके लिए ट्रेड लाइसेंस ही काफी होता हैं.

निगम लाइसेंस रजिस्ट्रेशन

अगर कोई बिजनेस को लार्ज स्केल पर किया जाता हैं तो निगम लाइसेंस की जरुरत होती हैं. निगम लाइसेंस का मतलब यह की आप जिस लोकेशन पर बिजनेस स्टार्ट कर रहे हैं वहां का नगर निगम आपको इस बिजनेस के लिए परमिशन देता हैं.

अगर बिल्डिंग के ऊपर के मंजिल पर कोई बिजनेस कर रहा हैं तो उसके लिए बिल्डिंग का परमिट चाहिए होता हैं.

इसके बाद आपकी बिजनेस प्रोफाइल(प्रोडक्ट का प्रकार, एकोत्पद या बहु उत्पाद अन्य पैमाने) यह तय करती हैं कि आपको कौनसे लाइसेंस की आवश्यकता होगी.

कंपनी के लिए noc का रजिस्ट्रेशन

अगर कंपनी या बिल्डिंग में आग लगने का खतरा रहता हैं तो फायर से बचने के लिए noc लाइसेंस लेना पड़ता हैं.

इसके बाद अगर आपका बिजनेस पर्यावरण में प्रदुषण फैलाता हैं और उस प्रदुषण को कम किया जा सकता हैं तो आपको noc मिलेगा. लेकिन यदि आपका यूनिट बहुत ज्यादा मात्रा में प्रदुषण करता हैं तो कोई भी स्टेट गवर्नमेंट इस तरह के बिजनेस का परमिशन नहीं देती हैं.

यदि आपका आपका बिजनेस किसी भी तरह का प्रदुषण नहीं कर रह हैं तो आपका बिजनेस ग्रीन केटेगरी में आएगा. इसमें आसानी से noc मिल जाता हैं. इसके बाद अगर कोई थोड़ा प्रदुषण वाला बिजनेस हो या जिसको किसी बाह्य स्रोत से ठीक किया जा सकता हैं, तो ऑरेंज केटेगरी में आता हैं. इस स्थिति में भी लाइसेंस मिल जाता हैं.

तीसरी केटेगरी में प्रदुषण बहुत अधिक मात्रा में होता हैं, इसमें प्रदुषण को रोकन मुश्किल होता हैं. इस तरह के बिजनेस रेड केटेगरी में आते हैं. इन बिजनेस को कोई noc नहीं मिलता हैं. स्टेट गवर्नमेंट इस तरह के बिजनेस को स्थापित करने का कोई परमिट नहीं देती हैं.

लेबर के लिए ईएसआई और ईपीऍफ़ का कवर

अगर आपकी कंपनी में लेबर या मजदूर काम कर रहे हैं तो आपको लेबर मंजूरी के लिए भी लाइसेंस रजिस्टर करवाना पड़ता हैं. मजदूरों कि स्थिति को जांचने के लिए समय समय पर लेबर इंस्पेक्टर आते रहते हैं.  

लेबर को जोखिम से बचाने के लिए उसकी सैलेरी को काटकर उसके लिए इन्सोरांस करवाया जाता हैं. इसके अलावा कर्मचारी के भविष्य निधि के लिए भी उसकी कुछ सैलेरी को काटकर पैसा बचाया जाता हैं.

 इसके लिए अगर फेक्ट्री या कंपनी में 10 से अधिक कर्मचारी काम कर रहे हैं तो आपको ईएसआई और ईपीऍफ़ का कवर लेना पड़ता हैं.

कम्पनी के लिए वेट रजिस्ट्रेशन

फेक्ट्री में बनने वाला प्रोडक्ट अगर माप तौल में खरा उतरता हैं तो वेट रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती हैं.

कंपनी msme में रजिस्टर करवाएं

एक बात को जरूर ध्यान रखना कोई भी बिजनेस हो msme से रजिस्ट्रेशन करवाना आवश्यक हैं.

Msme से बिजनेस को रजिस्ट्रेशन करवाने के बहुत फायदे हैं.

सबसे पहले आपका बिजनेस लीगली प्रूफ होता हैं.

दूसरा यह कि अगर आप बिजनेस के लिए मशीनरी खरीद रहे है तो आपको उसमे छुट मिलती हैं.

तीसरा यह बिजनेस में अगर लोन की आवश्यकता होती हैं तो वह भी बहुत आसनी से मिल जाता हैं.

तो आपने यह जान लिया होगा की कंपनी के लिए बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे? दूसरा आपने यह भी जान लिया होगा कि छोटी दूकान के लिए बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

एक महत्वपुर्ण बात यह कि अगर आपने कोई लाइसेंस ले रखा हैं और उसको renew करवाना हैं तो यह आपकी बिसनेस profile तय करेगी कि उसको कितने समय में renew करवाना होता हैं.

बिजनेस रजिस्ट्रेशन के लिए डाक्यूमेंट्स

अब तक हमने बहुत सारे प्रकार के लाइसेंस की बात कर ली हैं और यह जान लिया हैं कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे? अब बात करते हैं कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन के लिए कौनसे डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती हैं?

आपका मुख्य प्रश्न यह था कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे? इसके साथ साथ आपको यह भी जान लेना चाहिए कि बिजनेस रजिस्ट्रेशन के लिए किन पर्सनल डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती हैं?

पर्सनल डॉक्यूमेंट

पर्सनल डॉक्यूमेंट के अन्दर आपका आधार कार्ड, वोटिंग कार्ड, पेन कार्ड, पासपोर्ट साइज़ फोटो, कांटेक्ट नंबर और ईमेल-आईडी.

प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट

बिजनेस लैंड का डॉक्यूमेंट(इस लैंड का टाइटल क्लियर होना चाहिए), यदि आपने उस जमीन को लीज पर ले लिया हैं तो उसका लीज अग्रीमेंट(noc भी साथ में होना चाहिए)     

बिजनेस रजिस्ट्रेशन की फीस

अब बात करते हैं कि कौनसे बिजनेस रजिस्ट्रेशन के लिए कितनी फीस लगती हैं.

फ़ूड बिजनेस रजिस्ट्रेशन के लिए फीस

फ़ूड बिजनेस को रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए अगर सालाना टर्नओवर 12 लाख से कम हैं तो कीस तरह की कोई फीस नहीं लगती हैं. आगे आप fssai का लाइसेंस लेते हैं तो 2000 तक की फीस भुगतान करनी पड़ती हैं.

बिज़नस रजिस्ट्रेशन की फीस

जो बिजनेस रोड के पास या फिक्स लोकेशन पर स्थापित किये जाते हैं या जिन्होंने ट्रेड लाइसेंस ले रखा हैं. उनको बिजनेस प्रोफाइल के अनुसार 200 से 250 तक फीस का भुगतान करना पड़ सकता हैं.

लार्ज स्केल कंपनी रजिस्ट्रेशन की फीस

जैसा कि हमने आपको बताया की बड़ी इकाई को स्टार्ट करने के लिए निगम लाइसेंस की जरुरत पड़ती हैं. निगम लाइसेंस की फीस 2000 तक होती हैं.

Noc के लिए फीस

Noc के लिए फीस अलग अलग डिपार्टमेंट में अलग अलग होती हैं. जो कोई फायर सेफ्टी के लिए noc लेता हैं तो उसके लिए अलग से फीस हैं. अगर कोई फेक्टरी अपना पानी किसी नाले में छोड़ती हैं तो उसके लिए अलग से लाइसेंस लगता हैं और फीस भी अलग होती हैं. इसी प्रकार अलग अलग विभाग से अलग फीस पर लाइसेंस मिलता हैं.  

एयर noc के लिए फीस

एयर noc लाइसेंस के लिए 200 से 2500 तक फीस का भुगतान करना पड़ता हैं.

वाटर noc के लिए फीस

वाटर noc लाइसेंस के लिए 6500 तक फीस का भुगतान करना पड़ता हैं.

वेट रजिस्ट्रेशन के लिए फीस

दिल्ली स्टेट में स्थित किसी कम्पनी का अगर सालाना टर्नओवर 20 लाख तक का हैं तो उसके लिए लाइसेंस की फीस 500 से लेकर 1 लाख तक की ब्रांड सिक्यूरिटी देनी पड़ती हैं.

दिल्ली  के अलावा दुसरे सभी स्टेट के लिए जिस कंपनी का सालाना 10 दस से अधिक टर्नओवर हो तो उनके लिए 500 से लेकर 1 लाख तक का वेट रजिस्ट्रेशन और ब्रांड सिक्यूरिटी के लिए रजिस्ट्रेशन फीस देनी पड़ती हैं.

“बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे” आपने क्या सीखा

बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे(Business registration kaise kare) से सम्बन्धित पोस्ट में हमने यहाँ पर सभी प्रकार एक लाइसेंस की बात की हैं. अगर आप अपने किसी बिजनेस के लिए कुछ जानकारी चाहते हैं तो कमेंट में उसको टैग कर दे. शीघ्र ही आपको उसक उत्तर मिल जायेगा. आप किसी प्रटिक्यूलर बिजनेस रजिस्ट्रेशन कैसे करे के बारें में जानना चाहते हैं तो हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते हैं. यह निशुल्क हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.