Skip to content

पारिस्थितिकी तंत्र(ecosystem in hindi) – क्यों आवश्यक हैं इसका संतुलन

fish in water and text eco system

ecological imbalance इन हिंदी, paristhitik tantra ke asantulan ke koi do karan likhiye, what do you mean by ecosystem, paristhitik santulan kya hai, terrestrial ecosystem in hindi, describe an ecosystem, kritrim paritantra ka varnan karen, terrestrial ecosystem in hindi, पारिस्थितिक संतुलन क्या है, पारिस्थितिकी संतुलन, पारिस्थितिक तंत्र का वर्णन, पारिस्थितिकी संतुलन क्या है, पारिस्थितिक तंत्र के असंतुलन के कोई दो कारण लिखिए, paristhitik santulan kyon avashyak hai.

पारिस्थितिकी तंत्र(ecosystem in hindi)

हमारा पर्यावरण एक प्राकृतिक तकनीकी का अनुसरण करता हैं. इस तकनीकी को पारिस्थितिकी(ecology) या पारितंत्र(ecosystem) के नाम से जाना जाता हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि यह तकनीक मानवीय कल्पनाओं से कई गुना अधिक प्रभाव शाली हैं. हमारे पर्यावरण में छोटे Mycoplasma से लेकर व्हेल मछली या पर्यावरण के सभी घटक एक दुसरे पर निर्भर रहते हैं. जीवों के घटकों की इस प्रकार की निर्भरता को पारिस्थितिकी से समझा जा सकता हैं.

इस विशेष पोस्ट में हम जानेंगे कि पारिस्थितिकी तंत्र(paritantra kya hai) की परिभाषा, पारितंत्र के घटक और कार्य महत्वपूर्णता को जानेंगे. इस पोस्ट के जरिये मेरा उद्देश्य आपको पारिस्थितिकी का संतुलन और इसके असुंतलन के प्रभावों को समझाना हैं. इस पोस्ट में सभी विषयों का विस्तार से वर्णन करेंगे, शुरुआत करते हैं पारिस्थतिकी तंत्र की परिभाषा(paritantra kya hai) के साथ.

Jump On Query -:

पारिस्थितिकी तंत्र(ecosystem meaning in Hindi)

पर्यावरण में उपस्थित जैव और अजैव समुदायों का वातावरण से सम्बन्ध परितंत्र या पारिस्थितिकी कहलाता हैं. एक पारिस्थितिकी तंत्र में जीवों का एक समुदाय का संबंध उनके भौतिक वातावरण के साथ होता है. पारिस्थितिकी तंत्र मुख्यतर प्राकृतिक होते जो इस पृथ्वी का सुचारू रूप से सञ्चालन करने में सहयोगी होते हैं. लेकिन कृत्रिम रूप से भी पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण किया जा सकता हैं.

पारिस्थितिकी तंत्र के घटक

पारिस्थितिकी तंत्र एक विभिन्न स्तरों वाली प्रणाली होती हैं, जिसमे विभिन्न स्तरों में जैव और अजैव घटक होते हैं. पारिस्थितिकी तंत्र की संरचना को और अच्छे से समझने के लिए इसके दोनों जैविक और अजैविक घटकों को समझ लेते हैं.
परितंत्र या पारिस्थितिकी के दो घटक हैं –

1 जैविक घटक

जैविक घटकों में सभी छोटे बड़े सजीव,पादप आते हैं. जैविक घटकों की सरंचना को तीन उपभागों में बांटा गया हैं.

1 उत्पादक(Producer or Autotrophs)

उत्पादक में उन जीवों को रखा गया हैं, जो अपना भोजन स्वयं बनाते हैं. इनको स्वपोषी कहा जाता हैं. सभी हरे पेड़, पौधे जो क्लोरोफिल द्वारा प्रकाश संश्लेष्ण की क्रिया करते हैं.

2 उपभोक्ता(Consumer)

उपभोक्ता में परपोषी या जो भोजन के लिए उत्पादक पर निर्भर रहते हैं. उपभोक्ता शाकाहारी, सर्वाहारी, मांसाहारी हो सकते हैं. शेर एक मांसाहारी हैं, जो मांस के लिए शाकाहारी या सर्वाहारी पर निर्भर रहते हैं. इसके बावजूद की शेर प्राथमिक उत्पादक पर निर्भर नहीं रहता हैं, इसको उपभोक्ता में शामिल किया गया हैं. इसका कारण लिंडे का 10 प्रतिशत उर्जा स्थान्तरण का नियम हैं. उपभोक्ता को तीन – प्राथमिक, द्वितीयक, तृतीयक उपभोक्ता में वर्गीकृत किया गया हैं.

3 अपघटक(Consumer)

अपघटक उन सूक्ष्म जीवों और बेक्ट्रिया-ओं का समूह हैं जो मृत जीवों या कार्बनिक पर्दाथों पर निर्भर रहते हैं.

2 अजैविक घटक

अजैविक घटकों में किसी प्रकार जा जीवन नहीं होता है, लेकिन अजैविक घटक सजीवों के विकास के लिए आवश्यक होते हैं. अजैविक घटक – कार्बनिक, अकार्बनिक और भौतिक हो सकते हैं.

पारिस्थितिकी तंत्र के प्रकार(classification of ecosystem)

विभिन्न जलवायु, आवास और जीवन रूपों के आधार पर विभिन्न प्रकार के पारिस्थितिक तंत्र हो सकते हैं। इसका मतलब है कि पारिस्थितिक तंत्र को आम तौर पर सैकड़ों और हजारों छोटी प्रणालियों में विभाजित किया जा सकता है, लेकिन वे प्रणालियाँ दो मुख्य प्रणालियाँ का हिस्सा ही होंगे. इसलिए पारिस्थितिकी को दो मुख्य भागो में बाँट सकते हैं.

जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Aquatic ecosystem)
स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Terrestrial ecosystem)

जलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Aquatic ecosystem)

जलीय पारिस्थितिक तंत्र ऐसे सभी पारिस्थितिक तंत्रों को संदर्भित या शामिल करता है जो मुख्य रूप से जल निकायों पर आधारित होते हैं। जलीय प्रणाली में सभी जीवित और निर्जीव जीवों की प्रकृति और विशेषताओं का निर्धारण उनके पारिस्थितिकी तंत्र के आसपास के वातावरण के आधार पर किया जाता है।
जलीय पारिस्थितिकी तंत्र मुख्य रूप से निम्नलिखित प्रकारों में विभाजित है:

मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र

मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र मनुष्यों और भूमि पर रहने वाले अन्य जीवों के लिए आवश्यक पारिस्थितिक तंत्रों में से एक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह पारिस्थितिकी तंत्र पीने के पानी का स्रोत है। इसके अतिरिक्त, यह परिवहन, मनोरंजन आदि के लिए आवश्यक ऊर्जा और पानी उपलब्ध कराने में भी मदद करता है।
मीठे पानी का पारिस्थितिकी तंत्र प्रमुख प्रकार के पारिस्थितिक तंत्रों((ecosystem) में सबसे छोटा प्रकार का पारिस्थितिकी तंत्र है।

मीठे पानी के पारिस्थितिकी तंत्र में आमतौर पर नमक की मात्रा नहीं होती है। इसके अलावा, इसमें कई कीड़े, छोटी मछलियाँ, उभयचर और विभिन्न पौधों की प्रजातियाँ शामिल हैं। पौधे प्रकाश संश्लेषण के माध्यम से ऑक्सीजन प्रदान करने में मदद करते हैं और इस पारिस्थितिकी तंत्र में रहने वाले जीवों के लिए भोजन भी प्रदान करते हैं।

समुद्री पारिस्थितिकी तंत्र

समुद्री पारिस्थितिक तंत्र को आमतौर पर नमक या लवण की उपस्थिति होती है। इन पारिस्थितिक तंत्रों में मीठे पानी के पारिस्थितिकी तंत्र की तुलना में नमक की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा, उन्हें पृथ्वी पर सबसे बड़े प्रकार के पारिस्थितिकी तंत्र के रूप में जाना जाता है। इसमें आमतौर पर सभी महासागर और उनके हिस्से शामिल होते हैं। इसके अलावा, समुद्री पारिस्थितिक तंत्र में एक विशिष्ट वनस्पति और जीव होते हैं, जो मीठे पानी के पारिस्थितिक तंत्र की तुलना में अधिक जैव विविधता का समर्थन करते हैं। इस प्रकार का पारिस्थितिकी तंत्र समुद्री और स्थलीय वातावरण दोनों के लिए आवश्यक है।

विशेष रूप से, इस पारिस्थितिकी तंत्र में नमक दलदल, लैगून, प्रवाल भित्तियाँ, मुहाना, अंतर्ज्वारीय क्षेत्र, मैंग्रोव, समुद्री तल और गहरे समुद्र शामिल हैं। नमक के दलदल, मैंग्रोव वन और समुद्री घास के मैदानों को सबसे अधिक उत्पादक पारिस्थितिक तंत्रों में से एक कहा जाता है। प्रवाल भित्तियाँ दुनिया भर के अधिकांश समुद्री निवासियों को पर्याप्त मात्रा में भोजन और आश्रय प्रदान करने के लिए जानी जाती हैं।

स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र (Terrestrial ecosystem)

स्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र ऐसे सभी पारिस्थितिक तंत्रों को संदर्भित करता है जो मुख्य रूप से भूमि पर स्थित होते हैं। हालांकि इन पारितंत्रों में पानी की मौजूदगी को मापा जाता है, लेकिन ये पूरी तरह से जमीन पर आधारित होते हैं और जमीन पर मौजूद होते हैं.

पानी की कम मात्रा इन पारितंत्रों को जलीय पारितंत्रों से अलग करती है। इसके अलावा, स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र में आम तौर पर मौसमी और दैनिक जलवायु दोनों में तापमान में उतार-चढ़ाव होता है। यह एक विशिष्ट कारक भी है जो इन पारिस्थितिक तंत्रों को समान वातावरण में जलीय पारिस्थितिक तंत्र से अलग बनाता है।

इसके अलावा, जलीय पारिस्थितिक तंत्र की तुलना में स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र में प्रकाश की उपलब्धता कुछ अधिक है। इसका कारण यह है कि भूमि की जलवायु पानी की अपेक्षा अपेक्षाकृत अधिक पारदर्शी है। स्थलीय पारितंत्रों में पूरी तरह से अलग प्रकाश उपलब्धता और तापमान के कारण, उनके पास विविध वनस्पति और जीव हैं। स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र में विभिन्न भूवैज्ञानिक क्षेत्रों के आसपास वितरित विभिन्न पारिस्थितिक तंत्र शामिल हैं।

स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र को मुख्य रूप से निम्नलिखित प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है:

वन पारिस्थितिकी तंत्र

वन पारिस्थितिकी तंत्र एक पारिस्थितिकी तंत्र है जहां कई जीव पर्यावरण के अजैविक घटकों के साथ मिलकर रहते हैं। इस पारिस्थितिकी तंत्र((ecosystem) में बहुत भिन्न वनस्पति और जीव हैं। इसका आमतौर पर मतलब है कि वन पारिस्थितिकी तंत्र में जीवित जीवों का उच्च घनत्व होता है जो निर्जीव अजैविक तत्वों के साथ रहते हैं। वन पारिस्थितिकी तंत्र में आमतौर पर विभिन्न पौधे, सूक्ष्मजीव, जानवर और अन्य प्रजातियां शामिल होती हैं।

घास के मैदानों का पारिस्थितिकी तंत्र

घास के मैदान के पारिस्थितिक तंत्र को उन पारिस्थितिक तंत्रों के रूप में जाना जाता है जहाँ पेड़ों की संख्या कम होती है। इन पारिस्थितिक तंत्रों में मुख्य रूप से घास, झाड़ियाँ और जड़ी-बूटियाँ शामिल हैं। इसका मतलब है कि घास इन पारिस्थितिक तंत्रों में प्राथमिक वनस्पति हैं, साथ ही फलियां जो आम तौर पर समग्र परिवार से संबंधित होती हैं।

घास के मैदान के पारिस्थितिक तंत्र आमतौर पर विश्व स्तर पर उष्णकटिबंधीय और समशीतोष्ण दोनों क्षेत्रों में स्थित हैं; हालांकि, उनके पास अलग-अलग भिन्नताएं हैं। इन पारिस्थितिक तंत्रों के उदाहरणों में सवाना घास के मैदान और समशीतोष्ण घास के मैदान शामिल हैं।

पर्वतीय पारिस्थितिक तंत्र

जैसा कि नाम से पता चलता है, पर्वतीय पारिस्थितिकी तंत्र पर्वतीय क्षेत्रों की विशेषता है जहां की जलवायु आमतौर पर ठंडी होती है, और वर्षा कम होती है। इन जलवायु परिवर्तनों के कारण, इन पारिस्थितिक तंत्रों में विभिन्न प्रकार के आवास हैं जहाँ विभिन्न पशु और पौधों की प्रजातियाँ पाई जाती हैं। पर्वतीय क्षेत्रों के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ठंडी और तीक्ष्ण जलवायु होती है। यही कारण है कि इन पारितंत्रों में केवल वृक्षरहित अल्पाइन वनस्पति पाई जाती है। इन पारिस्थितिक तंत्रों में पाए जाने वाले जंतुओं के पास आमतौर पर ठंडी जलवायु से बचाने के लिए टिक-फर-कोट(जैसे याक के ऊपर बाल) होते हैं।

मरुस्थल पारिस्थितिक तंत्र

रेगिस्तानी पारिस्थितिकी तंत्र दुनिया भर में मौजूद है और लगभग 17 प्रतिशत रेगिस्तानी क्षेत्रों को कवर करता है। ये ऐसे क्षेत्र हैं जहां वार्षिक वर्षा आमतौर पर 25 मिमी से कम मापी जाती है। कम पेड़ और रेत की भूमि के कारण, इन पारिस्थितिक तंत्रों में धूप तेज होती है। यही कारण है कि इन पारिस्थितिक तंत्रों में अविश्वसनीय रूप से उच्च तापमान और पानी की कम उपलब्धता होती है।

मरुस्थलीय पारिस्थितिकी तंत्र में अद्वितीय वनस्पति और जीव हैं। पौधे कम मात्रा में पानी से बढ़ते हैं और अपनी पत्तियों और तनों में पानी की संभावित मात्रा को बचाते हैं। उदाहरण के लिए, काँटेदार पत्तों वाला कैक्टस एक प्रकार का रेगिस्तानी पौधा है जिसमें तने का उपयोग करके पानी जमा करने की विशेषता होती है। इसी तरह, जानवरों को भी रेगिस्तानी पारिस्थितिक तंत्र की स्थिति के लिए अपनाया जाता है। कुछ सामान्य जानवर ऊंट, सरीसृप, विभिन्न प्रकार के कीड़े और पक्षी हैं।

पारिस्थितिकी तंत्र के कार्य

पृथ्वी पर जीवन पारिस्थितिकी तंत्र से ही संभव हैं. अगर पारिस्थितिकी तंत्र से एक भी कड़ी टूट जाये तो दुसरें घटकों पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा. यहाँ पर पारिस्थितिकी तंत्र के प्रमुख कार्यों की सूची हैं.

पारिस्थितिकी तंत्र((ecosystem in hindi) सभी बुनियादी पारिस्थितिक प्रक्रियाओं को विनियमित करने, जीवन प्रणालियों का प्रबंधन करने और स्थिरता सुनिश्चित करने में मदद करता है।
पारिस्थितिक तंत्र के घटकों के विभिन्न पोषी स्तरों के बीच एक संतुलन संरचनात्मक प्रक्रिया को बनाए रखने में सहयोगो होता है।
यह जीवमंडल के माध्यम से खनिजों के चक्रण का संतुलन बनाये रखता है।
यह अजैविक और जैविक पारिस्थितिक तंत्र घटकों के बीच पोषक चक्रण को बनाए रखता है और नियंत्रित करता है।

रेमंड लिंडमैन का 10 प्रतिशत का नियम

सभी पारिस्थितिकी तंत्रों((ecosystem) में एक से अधिक श्रंखलायें होती हैं. इन श्रंखलाओं में एक घटक से दुसरे घटक में उर्जा का हस्तांतरण होता हैं. रेमंड लिंडमैन ने उर्जा हस्तांतरण के इस नियम को बताया – इस नियम के अनुसार एक उर्जा पोषी स्तर से अगले पोषी स्तर तक केवल दस प्रतिशत उर्जा का ही स्थान्तरण होता हैं शेष नब्बे प्रतिशत उर्जा का क्षरण श्वसन क्रिया और दुसरे क्रियाओं में खर्च हो जाती हैं.
इसलिए सबसे ज्यादा पेड़ होते हैं और शेर बहुत कम.

यदि पेड़ों को 1000 कैलोरी की उर्जा आवश्यकता होती हैं तो मानव को दस प्रतिशत अर्थात 100 कैलोरी की आवश्यकता होगी और अपघटक को दस प्रतिशत यानि 10 कैलोरी उर्जा की आवश्यकता होती हैं. यह प्रकृति का अद्भुत बना बनाया खेल हैं. उर्जा स्थान्तरण की इस प्रक्रिया में यदि कोई गड़बड़ी होती हैं तो बड़े स्तर पर बदलाव होता हैं.

पारिस्थितिकी तंत्र का संतुलन

जब हम बहुत अधिक कार्बन डाइऑक्साइड या मीथेन जैसे बाहरी कारकों को वायुमंडल में प्रवेश देते हैं, तो यह पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को नष्ट कर देता है जो बदले में इसमें रहने वालें घटकों को बहुत प्रभावित करता है। इसका परिणाम ग्लोबल वार्मिंग, पानी की कमी, प्रजातियों का विलुप्त होना आदि है। ये ग्रह पर हर जीवित चीज को प्रभावित करते हैं, जिसमें हम भी शामिल हैं।

पारिस्थितिकी तंत्र का संतुलन को आप इस घटना से समझ सकते हैं. 1958 में चाइना की सरकार ने खेत में उड़ने वाले छोटे पक्षियों को मार डाला, जिसका परिणाम यह हुआ की वहां के खेतों में छोटे छोटे सांप और दुसरे कीड़ों की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ गयी, इसका नतीजा यह हुआ कि वहां पर महामारी फ़ैल गयी और लोग मरने शुरू हो गए.

पर्यावरण के किसी पारिस्थितिकी तंत्र में किसी घटक पर मानवीय या प्राकृतिक प्रभाव के कारण उस घटक के प्रभावित जीवन से असुंतलन पैदा होता हैं. इस असुंतलन से सम्पूर्ण श्रंखला प्रभावित होती हैं. यह कोई सकारात्मक संकेत नहीं हैं. इसके केवल नुकसान ही हैं.

पारिस्थितिकी तंत्र के असुंतलन के कारण

पारिस्थितिकी असुंतलन के मुख्य कारण जल, वायु और भूमि प्रदूषण हैं. इस प्रदूषण में मानवीय और प्राकृतिक कारण शामिल हो सकते हैं. पारिस्थितिक तंत्र में किसी क्षेत्र के जानवर, पौधे और पर्यावरणीय परिस्थितियां शामिल हैं। आर्द्रभूमि, मैंग्रोव, वर्षावन और प्रवाल भित्तियाँ पारिस्थितिक तंत्र के उदाहरण हैं। पारिस्थितिक तंत्र एक बहुत ही नाजुक संतुलन बनाए रखता है। विभिन्न मानवीय गतिविधियाँ इस संतुलन को बाधित करने और दुनिया के पारिस्थितिक तंत्र को नष्ट करने की समस्याएँ पैदा करता हैं।

प्रदूषण

प्रदूषण पारिस्थितिकी तंत्र((ecosystem) के विनाश के मुख्य कारणों में से एक है। प्रदूषण संसाधनों को समाप्त कर सकता है और स्थानीय पशु आबादी को खतरे में डाल सकता है. प्रदूषण के महत्वपूर्ण स्रोतों में कचरा, कार्बन उत्सर्जन, तेल रिसाव और कीटनाशक शामिल हैं।

जलवायु परिवर्तन

पारिस्थितिकी तंत्र के विनाश में जलवायु परिवर्तन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग ने तापमान, समुद्र के स्तर और समुद्र की अम्लता में वृद्धि की है जो एक पारिस्थितिकी तंत्र के प्राकृतिक संतुलन को बाधित करता है।

वन विनाश

जैसे-जैसे मानव आबादी बढ़ती है, वैसे-वैसे और अधिक भूमि विकसित करने की आवश्यकता होती है। आवास विकास और सड़कों, कृषि उपयोगों और पशुधन को बढ़ाने के लिए भूमि को साफ करने के लिए कई पारिस्थितिक तंत्र((ecosystem in hindi) नष्ट हो जाते हैं।

संसाधन शोषण व अतिदोहन

कई पारिस्थितिक तंत्र प्राकृतिक संसाधनों जैसे पोषक तत्वों से भरपूर मिट्टी, पानी, पेड़ और जीवाश्म ईंधन से समृद्ध हैं। खनन और तेल ड्रिलिंग जैसे इन संसाधनों को निकालने के अत्यधिक प्रयास पारिस्थितिकी तंत्र के विनाश में योगदान करते हैं।

जानवरों जनसंख्या में गिरावट

एक पारिस्थितिकी तंत्र के लिए जानवर जैसे – शेर काफ़ी महत्वपूर्ण होते हैं, वन विनाश और जंगलों की कमी से इस प्रकार के जानवरों की कमी हो जाती हैं. अधिक मछली पकड़ने और शिकार के कारण कई जानवरों की आबादी घट रही है। जानवरों को अक्सर उनकी मूल्यवान खाल, पंख, सींग और मांस के लिए शिकार किया जाता है। यह परिस्थिति के लिए खतरा हैं.

pollution क्या होता हैं और कितने प्रकार का होता हैं

आपने क्या सीखा…

इस पोस्ट में मैंने आपके साथ पारिस्थितिकी तंत्र(paritantra kya hai), इसकी परिभाषा, पारितंत्र के घटक, प्रकार, इसके असुंतलन और इसके प्रभाव के बारे में विस्तार से जाना. आप इस पोस्ट से सबंधित कोई सुझाव या प्रतिक्रिया नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.