Skip to content

about sparrow in hindi | गौरैया चिड़िया के बारे में जानकारी हिंदी में

sparrow bird and name

sparrow in Hindi, sparrow in hindi word, sparrow in hindi name, sparrow in hindi essay

information about sparrow bird in hindi language

इस आर्टिकल में हम आपको गौरैया चिड़िया (sparrow bird in hindi) के बारे में रोचक जानकारी हिंदी में देने वाले है. sparrow bird information in hindi language. स्पैरो का अर्थ क्या होता है? गौरैया का वैज्ञानिक नाम क्या है? गौरैया क्या खाती है? गौरैया का बच्चा क्या खाता है? गौरैया चिड़िया (sparrow in hindi) के विषय में पांच वाक्य. (five sentences about sparrow in hindi). चिड़िया के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में. इस आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़े.

हिंदी में गौरैया चिड़िया के बारे में जानकारी(about sparrow in hindi)

गौरैया चिड़िया एक लघु आकार का पक्षी है. यह नन्हा पक्षी आमतौर पर हर जगह देखा जा सकता है. गौरैया चिड़िया साधरणतः सभी जगह पाई जाती है. एशिया महाद्वीप, यूरोप महाद्वीप, अफ्रीका, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में पाई जाती है. जहाँ जहाँ इंसानों ने अपना आवास बनाया है. वहाँ वहाँ इनका अस्तित्व मौजूद है. गोरैया चिड़िया हमारे घरो के आंगन व गली मोहल्लो की पहचान है. परन्तु वर्तमान में इन पक्षियों की संख्या में तेजी से गिरावट देखी गई. ऐसा क्यों? इसकी चर्चा हम आगे करेंगे. sparrow in hindi information

नाम गौरैया चिड़िया (sparrow bird)
वैज्ञानिक नाम passer domesticus
प्रजाति घरेलु गौरैया (house sparrow)
लम्बाई 14-15 cm
वजन 30-40 ग्राम
कुल प्रजातिया 43+
क्या खाता हैसर्वहारी
प्रमुख भोजन कीट पतंगे, बीज-दाने, फल-सब्जियां
जीवनकाल 3-5 वर्ष
शिकारी बिल्ली, कुत्ते, सांप, बाज आदि
प्रमुख दिवस20 मार्च “world sparrow day”
राज्य पक्षी दिल्ली और बिहार का
ABOUT SPARROW IN HINDI

घरेलु गौरैया चिड़िया(house sparrow)

  • सामन्यतः हमने एक ही प्रकार की गौरैया देखी है. जिसे हम अपने घरो के आस पास और आँगन में देखते है. वह एक घरेलु गौरैया या house sparrow bird की एक प्रजाति है.
  • house sparrow या घरेलु गौरैया का वैज्ञानिक नाम “passer domesticus” होता है. इसके अलावा गौरैया चिड़िया की कूल 43 से अधिक प्रजातिया होती है. जैसे सिंड गौरैया, स्पेनिश गौरैया, डेड सी गौरैया (यह नाम एक समुद्र के नाम पर रखा), और ट्री गौरैया आदि इनकी प्रजातिया है. ये अलग अलग वातावरण और जलवायु में रहने के कारण इनका नाम अलग पड़ा.

Must read :- information on dog in hindi

स्पैरो का अर्थ क्या होता है?

  • स्पैरो (sparrow) एक अंग्रेजी का शब्द है. स्पैरो का मतलब होता है गौरैया चिड़िया. स्पैरो यानी एक प्रकार की छोटी चिड़िया होता है.

five sentences about sparrow in hindi

  • यह मूलतः उत्तरी अफ्रिका की एक प्रजाति है. जहाँ से ये प्रजाति बाकी स्थानों पर फैली.
  • Gauraiya chidiya (गौरैया चिड़िया) दुनिया के सबसे छोटे आकार के पक्षियों की श्रेणी में आती है. गौरैया चिड़िया की लम्बाई 14-18 cm होती है. इनका वजन बेहद हल्का (लगभग 30-40 ग्राम) होता है. इस कारण ये जमीन से ज्यादा ऊंचाई तक नही उड़ सकती.
  • इनका रंग हल्का भूरा और सफ़ेद का मिश्रण होता है. गौरैया की चोंच व पैर हल्के पीले होते है. गौरैया के छोटे छोटे पंख होते है. उड़ने के लिए वह अपने परो को बहुत तेजी से फड़फड़ाती है. ये चिड़िया लम्बी दुरिया तय नही करती क्योंकि ये बहुत जल्दी थक जाती है. इन्हें बार बार विश्राम की जरुरत होती है.
  • नर चिड़िया (चिड़ा) की पहचान मादा गौरैया (चिड़ी) से थोड़ी अलग होती है. नर गौरैया के गर्दन के पास और सर के उपर काले रंग का गहरा धब्बा होता है. नर गौरैया का कद मादा की तुलना में थोडा छोटा होता है.
  • इनका जीवनकाल 3-5 वर्ष होता है. गौरैया चिड़िया एक सामाजिक पक्षी है अथार्त ये पक्षी झुंड में रहते है. ये अपने घोंसले भी एक कॉलोनी की तरह बनाते है. सुबह जब ये दाना चुगने जाती है तब पुरे flock (उडती चिड़ियों का झुंड) के साथ जाती है. और शाम को वापस भी फ्लॉक के साथ लौटती है.

गौरैया चिड़िया (sparrow bird) के विषय में पांच वाक्य

  • ये नन्हे पक्षी अपने घोंसले बनाकर रहते है. समान्यतः इनके घोंसले घरो के छज्जो में, छतो में, खाली पाईप में, पेड़ो के तनो के छेदों में अपना आसियाना बनाती है. ज्यादतर ये अपना घोंसला इंसानी बस्तियों के सास पास बनाती है. क्योंकि उन्हें यहाँ इंसानों द्वारा आसानी से दाना-पानी मिल जाता है. और उन्हें खाने के लिए लम्बी दुरी तय नही करनी पड़ती है.
gauraya pakshi
information about sparrow in hindi
  • घोसलों को शिकारियों से सुरक्षा के लिए कांटेदार झाड़ियों (बैर का पेड़ या बबूल का पेड़) में अपना घोंसला बनाते है. यह एक सर्वाहरी पक्षी है. गौरैया चिड़िया को कीड़े मकोड़े, पतंगो को खाना पसंद होता है. इसके अलावा यह घास के बीजो (जैसे बाजरा, गेंहू, मक्का), छोटे बीज के दाने, फल और सब्जियां भी खा लेती है. ज्यादा भूख होने पर इन्हें कंकर चुना खाते भी देखा गया है.
  • स्पैरो बर्ड काफी हल्की होती है. इस कारण ये आसानी से उड़ पति है. लेकिन ये ज्यादा ऊँचाइयों पर नही उड़ सकती. क्योंकि इनके पर बहुत छोटे होते होते है. और इन्हें अपने परो को फड़फड़ाने के लिए काफी मेहनत लगती है.
  • गौरैया चिड़िया के उड़ने की औसत गति 25-40 किमी. प्रति घंटा मापी गई है. और संकट में हो तो ये 50 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से भी उड़ सकती है. क्या आपको पता है? स्पैरो बर्ड पानी में तैर भी सकती है. जब वह किसी संकट में होती है तब वह पानी में भी तैर सकती है. गौरैया की फुदकने की प्रकृति होती है. क्योंकि यह चल नही सकती. इसलिए ये फुदकती है.
  • यह नन्हा खुबसूरत पक्षी बिल्ली, कुत्तो, सांपो, बाज और नेवला जैसे शिकारियों की आसानी से शिकार बन जाता है. गौरैया पक्षी की आवाज मधुर सी होती है. इस पक्षी की आवाज एक म्यूजिकल नोट “ची-ची-चूं-चूं-ची-ची” की तरह होती है. जो सुनने में कर्णप्रिय लगती है.

Gauraiya chidiya facts in hindi

प्रजजन के समय में नर गौरैया पक्षी मादा को लुभाने के लिए एक विशेष तरह का नाच करता है. सामन्यतः ये जोड़े एक बार में 4 से पांच पर प्रजजन करते है.

समान्यतः एक मादा स्पैरो बर्ड एक बार में 3 से 4 अंडे देती है. उन अंडो को सेकने में 13 से 15 दिन लगते है. इस दौरान मादा पक्षी अंडो की सेकने का कार्य करती है. जबकि नर पक्षी घोंसले की सुरक्षा करता है. इस दौरान मादा गौरैया के भोजन की व्यवस्था नर पक्षी द्वारा की जाती है.

15 दिनों बाद अंडे परिपक्व होकर फूटने लगते है. उनमे से अब चूजे निकलने लगते है. अंडे देने के बाद ये पक्षी थोड़े आक्रामक हो जाते है. क्योंकि उन्हें शत्रुओं से अपने अंडो की रक्षा करनी होती है. कोई शिकारी या शत्रु आने पर वे जोर जोर से चीखती है. जिससे आस पास के उनके साथी भी रक्षा करने आ जाते है. और यह उनकी सामजिकता को दर्शाता है.

गौरैया चिड़िया (sparrow bird) का बच्चा क्या खाता है?

चूजे अंडो में से निकलकर भोजन के लिए पूर्णत अपने माता पिता पर निर्भर रहते है. चूजो को बड़ा होने में लगभग 15 दिन लग जाते है. गौरैया के 3-4 चूजो में से 1 या 2 चूजे ही बड़े हो पाते है. बाकी किसी कारणवश मर जाते है.

गौरैया चिड़िया को नहाना बेहद पसंद होता है. अपने भी उन्हें पानी के कुंडों में या रेत में नहाते हुए देखा होगा. उन्हें पानी में अठखेलियाँ करना अच्छा लगता है. हमारे यहाँ तो यह भी माना जाता है कि, जब चिड़िया रेत में नहाती है. तब बारिश होने की सम्भावना होती है.

few lines on sparrow in hindi

वर्तमान में गौरैया चिड़िया (sparrow bird) की संख्या में लगातार कमी हो रही है. कई देशो में तो इन्हें लुप्त घोषित कर दिया है. ऐसा ही चलता रहा तो इन नन्हे पक्षी का दिख पाना भी मुस्किल हो जाएगा. हम अपनी आने वाली पीढियों को कहेंगे कि, देखो कुछ सालो पहले ऐसा पक्षी हुआ करता था.(तस्वीर की और इशारा करते हुए).

गौरैया चिड़िया की घटती आबादी का क्या कारण हो सकता है? इसका एक ही कारण है कि इंसानों का प्रकृति में हस्तक्षेप बढ़ जाना. बढ़ते रेडिएशन से मासूम नन्हे पक्षियों की निरंतर मौते हो रही है. मोबाइल टावर्स से निकलने वाली रेडिएशन यानी विकिरणों के इन पक्षियों के लिए प्राण घातक है. इन हानिकारक रेडिएशन से इनके प्रजजन करने की क्षमता घट जाति है. और ये दिशाएँ खोज नही पाती जिससे ये भटक जाति है. अंतत इनकी मृत्यु हो जाती है.

स्पैरो बर्ड (गौरैया चिड़िया) को बचाने के उपाय क्या है? sparrow bird को बचाने के लिए कई देश अपने अपने स्तर पर प्रयास कर रहे है. पुरे विश्व में हर साल 20 मार्च को “विश्व गौरैया दिवस” (world sparrow day) मनाया जाता है.

गौरैया की घटती संख्या को कम करना, लोगो को इसके प्रति जागरूक करना, गौरैया चिड़िया का संरक्षण करना तथा उसे लुप्त होने से बचाना इसका मुख्य उद्देश्य है. साल 2021 में इसकी “आई लव स्पैरो” थीम रखी गई थी. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि गौरैया चिड़िया को दिल्ली और बिहार राज्य ने अपना राज्य पक्षी घोषित किया है.

इस आर्टिकल में हमने gauraiya chidiya के बारे में विस्तार से जानकारी हिंदी में प्रदान की है. उम्मीद करता हूँ यह आर्टिकल ((about sparrow in hindi. sparrow bird information in hindi language) आपको अच्छा लगा होगा. हमारी अन्य रोचक भरे आर्टिकल भी जरुर पढ़े. धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published.