सीमेंट पेंट करने की विधि – वाइट सीमेंट लगाने का सही तरीका

घर को सुन्दर बनाने के लिए घर का पेंट करवाना आवश्यक हैं. पेंट करवाने से पहले घर पर वाइट सीमेंट की पुताई की की जाती हैं. वाइट सीमेंट लगाने के फायदों को हम आगे जानेंगे, पहले हम यह जानेगे कि वाइट सीमेंट को लगाने का सही तरीका क्या हैं?

वाइट सीमेंट को लगाने से पहले और वाइट सीमेंट लगाने के बाद कई सारी सावधानियां रखनी पड़ती हैं. वाइट सीमेंट को लगाने के लिए सही घोल तैयार करना होता हैं. पहले और बाद में अच्छी तरह से सिचाई या तराई करनी होती हैं. तो पहले आपको यह जानना चाहिए की दीवार पर वाइट सीमेंट या सीमेंट पेंट लगाने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

अगर एक नया घर बन कर तैयार हो चूका हैं, तो लगभग एक महीने के बाद वाइट सीमेंट या सीमेंट पेंट या जा सकता हैं.

यहाँ ध्यान रखने की बात हैं की सीमेंट पेंट और वाइट सीमेंट पेंट को लगाने का एक ही तरीका होता हैं. वाइट सीमेंट मे ही कुछ अलग से स्टेनर मिलाकर इसको कलरफुल बना दिया जाता हैं. इसलिए वाइट सीमेंट और वाइट सीमेंट पेंट एक ही तरीके से लगाया जाता हैं.

वाइट सीमेंट को लगाने से पहले इन बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए.

  • नए घर पर एक महीने या 28 दिनों के बाद ही वाइट सीमेंट को लगाना चाहिए.
  • वाइट सीमेंट लगाने से पहले दीवार को अच्छी तरह से तराई कर दें, ताकि वाइट सीमेंट और दीवार की सीमेंट की आपस में पकड़ मजबूत हो सकते हैं.
  • पुरानी दीवार या पहले से पेंट की गयी दीवार को लिक्विड क्लीनर या ब्रश से घसकर दीवार को साफ जरूर कर ले और कपडे से झटक लेवे.
  • पुराने घर की दीवारों पर वाइट सीमेंट लगाने से 24 घंटे पहले और पुताई का काम शुरू करने से पहले तराई जरूर कर लेवें.  

उपरोक्त बातों को फॉलो करके वाइट सीमेंट को लगाया जाना चाहिए.

1 सीमेंट के फर्श को कैसे साफ करें (How to clean cement floor)

वाइट सीमेंट मार्किट में हर तरह के पैक में मिल जाती हैं. वाइट सीमेंट की सेल्फ लाइफ तीन महीने होती हैं. इसलिए अपने जरुरत के हिसाब से खरीद लेवें.

सबसे अच्छी वाइट सीमेंट बिरला वाइट सीमेंट आती हैं. इसके अलावा दुसरे ब्रांड भी मार्किट में आते हैं, आप उनको भी खरीद सकते हैं.

वाइट सीमेंट का पेंट बनाने के लिए एक किलो वाइट सीमेंट में 750 ml पानी को शामिल किया जाना चाहिए.

इसको आप जरुरत के हिसाब से कम जयादा भी कर सकते हैं.

अगर वाइट सीमेंट में कोई दूसरा कलर या स्टेनर मिक्स करना हो तो उसको भी इसी घोल में शामिल किया जा सकता हैं.

मान लीजिये आपको दीवार का पेंट ब्लू करना हैं तो ब्लू कलर का स्टेनर को वाइट सीमेंट के घोल में शामिल किया जा सकता हैं. लगभग एक किलो सीमेंट में 750 ml पानी और स्टेनर के 2 ढक्कन कलर मिलाया जा सकता हैं. यह स्टैंडर्ड वैल्यू हैं, आप इसको थोड़ा ऊपर नीचे भी कर सकते हैं.

वाइट सीमेंट का colourful पेंट बनाने के बाद अच्छे से मिक करके पंद्रह मिनट के लिए रख दे इसके बाद दीवार पर इसलो लगा सकते हैं.

वाइट सीमेंट के दो कोट लगाने जरूरी होता हैं. दो कोट में दीवार और पेंट की पकड़ और अधिक मजबूत हो जाती हैं. पहले कोट को लगाने से पहले इन बातो का ध्यान रखना चाहिए.

  • पहला कोट वर्टिकल अप्लाई करनी चाहिए.
  • पहले कोट को अप्लाई करने से पहले दीवार को अच्छे से तराई कर लेवे.
  • पहला कोटिंग के बाद लगभग चार दिन तराई करनी चाहिए.
  • पहले कोट के पूर्ण हो जाने पर 24 घंटे बाद तराई शुरू की जानी चाहिए.
  • पहले कोट में किसी तरह के स्टेनर का इस्तेमाल नहीं करें.

2 43 और 53 ग्रेड सीमेंट के बीच का अंतर – difference between 34 and 53 grade

पहली कोटिंग के बाद चार दिन या सात दिन बाद दुसरे कोटिंग की तरफ बढ़ना चाहिए. देखिये, वाइट सीमेंट भी एक सीमेंट का प्रकार होता हैं, सीमेंट मजबूती पकड़ने के लिए कुछ समय लेती हैं. इसलिए चार से पांच दिन तक दिन में दो तीन बार तराई करनी चाहिए.

वाइट सीमेंट के दुसरे कोट के बाद दूसरा वाल पेंट किया जा सकता हैं.

दुसरे कोटिंग के लिए इन बातों का ध्यान रखे.

  • दूसरा कोटिंग चार से पांच दिनों बाद करना चाहिए.
  • दूसरा कोटिंग होरिजंटल या खड़े हाथ से करना चाहिए, या फर्स्ट कोटिंग से जस्ट विपरीत तरीके से करना चाहिए.
  • दुसरे कोटिंग में ही स्टेनर को मिक्स करें.
  • दुसरे कोटिंग के बाद सात दिनों तक तराई करें.

अब तक आप जान गए होंगे की वाइट सीमेंट या वाइट पेंट को कैसे लगाया जाता हैं, और वाइट सीमेंट लगाने की सही विधि क्या हैं?

अक्सर लोग घर पर पेंट कराने से पहले वाइट सीमेंट लगाते हैं. वाइट सीमेंट को इस्तेमाल करने के अनेक फायदे हैं.

  • वाइट सीमेंट दीवार को पहले से अधिक मजबूत करती हैं.
  • वाइट सीमेंट कलर और दीवार के बीच एक आधार बनाती हैं, यह आधार दीवार पर लगने वाले पेंट की मात्रा को बचाता हैं.
  • वाइट सीमेंट बहरी दीवारों की सुन्दरता को बढ़ाता हैं.
  • वाइट सीमेंट दीवार की सुन्दरता को बढाने के साथ साथ ख़राब मौसम और वर्षा से भी सुरक्षित रखता हैं.
  • वाइट सीमेंट में अलग अलग शेड्स लगाकर इसको रंगीन बनाया जा सकता हैं जो दुसरे पेंट्स की तुलना में कई गुना सस्ता होती हैं और किफायती भी होती हैं.
  • वाइट सीमेंट अपने ऊपर पड़ने वाले प्रकाश को वापस परावर्तित करता हैं, जिससे दीवारें ज्यादा गर्म नहीं होती हैं. प्रकाश के परावर्तन से दीवारें पहले से ज्यादा चमकदार हो जाती हैं.
  • वाइट सीमेंट वाटरप्रूफिंग का काम भी करती हैं, इसलिए वाइट सीमेंट के बाद किसी दुसरे वाटर प्रूफ कोट की आवश्यकता नहीं होती हैं.
  • वैसे सरिया अति उच्च तापमान भी सहन कर सकते है, लेकिन खिडकियों के चौखट कभी कभी गर्म हो जाते हैं, जिनसे चौखट के आस पास कुछ महीन दरारें पड़ जाती हैं. वाइट सीमेंट इस क्षति को कुछ हद तक कम कर देता हैं.

3 All cement price list today 2022 आल सीमेंट प्राइस लिस्ट टुडे, सीमेंट का भाव आज

आपने क्या सीखा… वाइट सीमेंट लगाने का सही तरीका

घर को सुन्दर बनाने के लिए वाइट सीमेंट का इस्तेमाल किया जाता हैं. वाइट सीमेंट पेंट, दुसरे पेंट की तुलना में खर्चे को कम करता हैं. इसलिए घर के लिए वाइट सीमेंट को चुनना एक बेहतर विकल्प हैं.

1 thought on “सीमेंट पेंट करने की विधि – वाइट सीमेंट लगाने का सही तरीका”

  1. अरूण कुमार सिंह

    क्या white cement को फर्श बनाने के लिए उपयोगी है। यदि है तो कैसे उपयोग किया जाता है?

Leave a Comment

Your email address will not be published.