business management tips in hindi, बिजनस में सफलता के टिप्स हिंदी में

light blue colour image

Business tips for success in hindi

business management tips and trick in Hindi – बिज़नस छोटा हो या बड़ा उसे सुचारू रूप से चलाने और प्रगति करने के लिए सही मैनेजमेंट की जरुरत होती है. so in this article, we are going to tell you business management tips and trick in Hindi language.

किसी भी बिज़नस के सफल होने के पीछे कई सारे कारण हो सकते है. भारत में ज्यादातर बिज़नस या स्टार्टअप अपने शुरुआती पांच सालो में ही ठप हो जाते है. इसका कारण यह हो सकता है कि, लोगो को मैनेजमेंट के बारे में नॉलेज (business knowledge in hindi) कम होना.

किसी भी बिज़नस या स्टार्टअप के ग्रो करने क्या करे? इसके लिए सबसे जरुरी मानक ये होने चाहिए. प्लानिंग, मैनेजमेंट और लीडरशिप का तालमेल सही होना चाहिए. अधिकांश व्यक्ति बहुत सारी entrepreneurship के साथ पैदा होते हैं.

जैसे अपने देखा होगा कि, आपके आस पास सब्जीवाला कैसे सब मैनेज कर लेता है. भले ही उसका व्यवसाय छोटा है. लेकिन क्या उसने इसके लिए कही से ट्रेनिंग ली है नही. वैसे ही मैनेजमेंट अपने अंदर स्वत आ जाता है. लेकिन बिजनेस में स्मार्ट बनने के लिए और बिज़नस को नई ऊँचाइयों पर ले जाने के लिए आपको कई चीजें सीखने की जरूरत है.

क्या आप जानना चाहते है, अपने व्यापार को तेजी से कैसे बढ़ाए? (how to develop business). यदि नहीं तो इस आलेख के माध्यम से हम आपको business से जुडी बारीकियों को बताने वाले है. जिसे कई बिजनसमेन नजरअंदाज कर देते है. जिससे उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ता है.

क्या आप एक छोटा व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहे हैं या पहले से ही एक कंपनी चला रहे हैं? यहां कुछ business management tips and trick in hindi दिए गए हैं. जो आपको अपने व्यवसाय या स्टार्टअप में सफलता प्राप्त करने में मदद करेंगे. चलिए जानते है business krne ke tips.

जब अपना पहली बार व्यवसाय शुरू करने की बात आती है, तो आपको हर कदम बड़े विवेक और संयम के साथ लेने होते है. आपको बहुत सोच-विचार के बाद कोई भी फैसला लेने की जरूरत है.

“यदि आपका किसी भी काम या फील्ड में पूर्ण आत्मविश्वास (self confidance), जोश और लगन पैदा हो जाए तो समझे आपकी सफलता पक्की है”

Upay for Business growth in hindi

most read :- peace mind quotes in hindi

tinfographics for business tips

business advice in hindi

अपने intrest का बिज़नस चुने

  • क्या आप बिजनस में जबरदस्ती तो नही उतरे है? कई कभार क्या होता है कि, लोग दुसरो की कॉपी करते हुए कोई भी business शुरू कर देते है. लेकिन कुछ समय बाद उन्हें उस काम करते हुए बोरियत महसूस होती है. और वे अपने business को वही खत्म कर देते है.
  • इसलिए एक्सपर्ट्स सबसे पहले यह सलाह देते है कि अपना intrest जाने. अपने passion को फॉलो करे. या उस फिल्ड में अपना इंटरेस्ट जगाओ. कितना अच्छा हो यदि आपको जिस काम में intrest हो और वही आपको पैसा बना के दे. इसका दूसरा फायदा यह है कि, आप को कभी बोरियत नही होगी. आप बिना थके लगातार काम कर सकते है.

शुरुआत कम बजट से करे

आमतौर पर लोगो में यह धारणा बन गई है कि, बड़ा बिज़नस बनाने के लिए बड़ी मात्रा में इन्वेस्टमेंट करनी होती है. लेकिन विशेषज्ञों को मानना है कि, बिज़नस में प्रॉफिट कमाने के लिए शुरुआत में बजट कम रखना चाहिए.

कई व्यापारी अपने को बढ़ा चढ़ा कर दिखाने का प्रयास कर ग्राहकों को आकर्षित करते है. बड़ा ऑफिस लेते है, उसमे महंगा फर्नीचर करते है और शानदार ओपनिंग सेरेमनी करते है.

ध्यान रहे यह आपके सबसे जरुरी कामो में से एक नही है. बिज़नस में पैसा वही लगाए जहा ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट होता हो.

हर किसी से अपने बिज़नस की चर्चा न करे

अपने बिज़नस प्लान या आईडिया के बारे में ऐसे लोगो के साथ चर्चा नही करे जिन्हें बिज़नस की abcd भी मालूम नही हो. क्योंकि ऐसे लोग आपको negetive thoughts देते है. जो demotivate कर सकते है. यह बहुत मामूली बात है. लेकिन लोग इसे नजरअंदाज कर देते है. ऐसा करने से बचे.

ego का त्याग करे

जब आपका बिजनस बुलंदियां छू रहा है तो अपने अंदर ईगो आना व्यवहारिक सी बात है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि, एक बिजनस मेन को अपने ego (अहम्) को समय रहते आगे नही बढ़ने देना चाहिए.

ईगो के आवेश में आकार एक व्यक्ति कम्पनी को बड़ा नुकसान पंहुचा सकता है. ego में रहकर आप बड़ा कार्य तो कर सकते है लेकिन यह आपको इतना अंधा कर देता है कि, आप अपने मुख्य उद्देश्य से विचलित हो सकते हो. इसलिए अपने ईगो को गो कह दो.

T.F. management (business rules in hindi)

T – Time management – किसी के व्यक्तिगत या पेशेवर जीवन में सुधार के लिए टाइम मैनेजमेंट करना महत्वपूर्ण होता है. समय का ट्रैक खोना या अपने कार्यभार को प्रभावी ढंग से सुचारू करने में सफल न होना सबसे संगठित लोगों के लिए भी एक चुनौती हो सकती है.

आपको अपने व्यवसाय और व्यक्तिगत जीवन में आगे बढ़ने के लिए मजबूत समय प्रबंधन कौशल (time management skill) होना चाहिए. ऑफिस में और ऑफिस के बाहर दोनों जगह अपना अधिकतम समय बनाने में मदद करने के लिए नीचे दिए पॉइंट्स देखें.

सीमाएँ निर्धारित करें – सीमाएँ महत्वपूर्ण हैं, और आपको कार्यालय के अंदर और बाहर अपने समय के आसपास की सीमाओं की आवश्यकता है। काम के घंटे निर्धारित करें और उनका पालन करें.

कोशिश करें कि, ऑफिस से दूर या बाहर अपने समय में खराब न होने दें. यदि आप घर से काम करते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपके आस-पास के लोग आपके काम के घंटों का सम्मान कर रहे हैं और सुनिश्चित करें कि आपका काम करने का समय काम के लिए समर्पित है.

जल्दी शुरू करें – सभी मनुष्य को दिन में 24 घंटे मिलते है. यदि आप जल्दी शुरू करते हो तो आप बाकी लोगो से आगे रहोगे और गुणवत्ता भी बढ़ेगी. हालाँकि आपको अपना दिन सुबह 5 बजे शुरू करने की ज़रूरत नहीं है, लेकिन जल्दी शुरू करने पर विचार करें. हर दिन एक ही समय पर अपना कार्यदिवस शुरू करके सफलता के लिए खुद को तैयार करें और एक ऐसी दिनचर्या (daily routine) को लागू करने पर विचार करें जो, आपका ध्यान केंद्रित करे.

सब कुछ शेड्यूल करें – केवल क्लाइंट्स के साथ अपनी मीटिंग शेड्यूल न करें. अपने दिन के दौरान आप जो कुछ भी सोच सकते हैं उसे शेड्यूल करें. अपने पूरे दिन शेड्यूल ब्रेक करें और उनसे चिपके रहें.

अगर आपके लिए कुछ महत्वपूर्ण है तो सुनिश्चित करें कि यह आपके शेड्यूल में है. फिर, अपने शेड्यूल की सीमाओं का सम्मान करें और अपनी टू-डू लिस्ट को डस्टबिन में डाल दे. business management tips in hindi

F – finance management – बिज़नस में वित्त का प्रबंध करना अति महत्वपूर्ण होता है. इसके लिए आपको इन बातो को ध्यान में रखना है. अपने व्यवसाय और व्यक्तिगत वित्त के लिए अलग-अलग रिकॉर्ड रखे. देखा गया है कि, यह हर व्यवसाय की सफलता के पीछे एक महत्वपूर्ण रहस्य होता है. यदि आपकी कंपनी एक टैक्स योग्य (taxable) है. तो आपको अपनी आय को, अपनी कंपनी की आय के साथ नहीं मिलाना चाहिए.

अपने निजी बैंक खाते में व्यावसायिक भुगतान के लेन देन से बचें. और अपने निजी खर्चों को व्यवसाय खाते में न दिखाएं. वित्त के मामले में एक सतर्क व्यवसायी बने. और इसके लिए आपको अपनी कंपनी का हिसाब किताब अच्छी तरह से व्यवस्थित रखे. इससे आपको कंपनी ऑडिटिंग के समय अनावश्यक कागजी कार्रवाई से बचने में मदद मिलेगी.

बिजनस में सफलता के नियम

goal set करे

बिज़नस हो या किसी फील्ड में हो, goal set करना सबसे जरुरी काम है. यह एक रोडमैप का कार्य करता है. goal भी दो तरह के होते है.

पहला long term goal और दूसरा short term goal. long term goal में आप एक साल, दो साल, पांच साल या इससे अधिक रख सकते हो. और इस अवधि में आपको अपने लक्ष्य तक पहुचना होता है.

वही short term goal, जिन्हें daily set करना होता है और पूरा करना होता है. अधिकतर सफल बिज़नस मैन short term goal set करने को बहुत महत्वपूर्ण मानते है. यह आपको long term goal को अचीव में मदद करता है.

हर छोटा व्यवसाय बड़ा बनने की क्षमता रखता है. यदि वह केवल दीर्घकालिक लक्ष्यों (long term goal) पर प्राथमिकता के रूप में ध्यान केंद्रित करने के बजाय अल्पकालिक लक्ष्यों (short term goal) पर काम करता रहे. चाहे वह आपकी कंपनी के बुनियादी ढांचे के आकार का विस्तार कर रहा हो, कर्मचारियों की संख्या में वृद्धि कर रहा हो, या ऊचे विकास के आंकड़े प्राप्त कर रहा हो, आपको अल्पकालिक लक्ष्य (short term goal) निर्धारित करने और उन पर धीरे-धीरे काम करने का प्रयास करने की जरुरत है.

जब आप अल्पकालिक व्यावसायिक लक्ष्यों (short term goal) को प्राप्त करते हैं, तो आपको कुछ नया कोशिश करने की और अपने व्यवसाय में एक बड़ी छलांग लगाने की प्रेरणा मिलती है.

एक बार जब आपके शुरुआती मील के पत्थर हासिल होए, तब आप बड़े मील के पत्थर स्थापित करने पर विचार करे. इसक अलावा आपको उन्हें निर्धारित समय सीमा (deadline) के भीतर प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए.

knowledge aquire  करे

अधूरी जानकारी के साथ किसी भी बिज़नस को स्टार्ट नही करे. आधी अधूरी जानकारी, अज्ञानता से भी खतरनाक होती है. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने भी कहा है, ‘किसी भी फील्ड में महान बनने का एक ही तरीका है कि, पहले एक महान सपना देखो और उसे पूरा करने के लिए सारी knowledge ग्रहण करो.’ इसलिए किसी भी बिज़नस को स्टार्ट करने से पहले उसका अध्ययन (study) करे. मार्केट एनालिस, ऑडियंस एनालिसिस और प्रॉफिट एनालिसिस करे.

ग्राहक को प्राथमिकता दे (business management trick in hindi)

व्यापार में एक ग्राहक ही आपके लिए भगवान होता है. उसे संतुष्ट करना, और विश्वास दिलाना ही आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए. ग्राहकों के साथ अच्छा व्यवहार करे. क्योंकि ‘लोग ये याद नही रखते की आपने उनको क्या बोला था बल्कि ये याद रखते है आपने उनके साथ कैसा व्यवहार किया था.’ इस बात पर गौर करे. ग्राहकों का अपने प्रति विश्वास जगाए, वफादार ग्राहक, आपके व्यापार के लिए काफी लाभदायक हो सकते है.

असफलता से नही डरे

यदि आप अपना छोटा व्यवसाय या स्टार्टअप चलाते हैं, तो आप यह कभी नहीं जानते कि कल क्या होगा. आपको कई अप्रत्याशित चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है, इसलिए मुख्य चीजों में से एक है हार न मानना (never giveup). यदि आप शरू में अपने खर्चों को कम रखते हैं, तो आप किसी भी बाधा के लिए तैयारी करने में सक्षम होंगे जो, आपको सफलता की राह पर अनिवार्य रूप से मिलेंगी. कड़ी मेहनत (hard work) करने के साथ smart work करे, स्पष्ट निर्णय लें और अपने goals पर टिके रहें. ध्यान रहे कि, कोई business रातो रात बड़ा नही बनता. लेकिन निरंतर सही प्रयासो से एक दिन जरुर बड़ा बन सकता है.

“असफलता को मैनेज करने के लिए बड़े डिसीजन के स्थान पर छोटे डिसीजन ले और प्रत्येक असफलता से कुछ सीखने का प्रयास करें”

Business knowledge in hindi

खुशियां मनाए (business advice in hindi)

आपने यह तो सुना होगा, ‘enjoy the little things’. आपको जरुरत है छोटी छोटी उपलब्धि या सफलताओं पर ख़ुशी मानना. अपने स्टाफ के साथ सेलिब्रेट करना या चीयर्स करना. जैसे को प्रोजेक्ट पूरा होने पर या को डील पक्की होने पर पुरे स्टाफ के साथ मिलकर खुशी मना सकते है. इससे न केवल आप मेंटली रिलैक्स होते है बल्कि आपकी टीम या स्टाफ का भी काम के प्रति उत्साह बना रहता है.

कुछ हटकर करे

एक्सपर्ट्स का मानना है कि, प्रतिस्पर्धा के इस युग में अपनी जगह बनाने के लिए एक कम्पनी को अपने कॉम्पिटिटर से कुछ हटकर करना चाहिए.

चाहे छोटे रूप में ही सही, लेकिन अपने कॉम्पिटिटर से अलग दिखना बिज़नस में सफलता की ओर महत्वपूर्ण कदम है. अपने प्रोडक्ट की छोटी छोटी विशेषताओं में थोडा बहुत अंतर करके ग्राहकों का दिल जीता जा सकता है. साथ ही अपनी एक अलग पहचान बनाई जा सकती है. इसके लिए आपको कस्टमर और प्रोडक्ट का बारीकी से विशलेषण करना आना चाहिए.

इसके कई उदाहरण देखे जा सकते है. जैसे कई टूथपेस्ट निर्माता कम्पनियां, अपने टूथपेस्ट में नमक बताकर, कोई जडीबुटी बताकर तो कोई 24 घंटे ताजी साँस बताकर ग्राहकों को आकर्षित करने में लगे है.

successful business rules in hindi

अपने बिज़नस के राज न खोले

ऐसा करने से आप अपने बिज़नस को डूबने से बचा सकते है. रावण कभी न मरता यदि विभीषण ने उसका राज नही खोला होता. दुनिया की सबसे बड़ी कोल्डड्रिंक निर्माता कम्पनी coca cola में, coca बनाने का फार्मूला कम्पनी में केवल दो लोगो पता है.

इस कारण दूसरी कोल्डड्रिंक में उसके जैसा स्वाद नही आता. यदि आप अपने आस पास भी देखे किसी हलवाई की मिठाई बहुत प्रसिद्ध है. जबकि उसी प्रकार की मिठाई का बाजारों में ढेर लगा है. जिसका स्वाद उसके जैसा नही होता.

ज्यादा से ज्यादा ग्राहक बनाए लेकिन..

जितने ज्यादा ग्राहक होंगे उतनी ही ज्यादा आपके प्रोडक्ट की सेल होगी. इसलिए ज्यादा से ज्यादा ग्राहक जोड़े लेकिन, ध्यान रखे आप पुराने जो, रेगुलर ग्राहक है उन्हें नजरअंदाज न करे. अक्सर होता है कि, नए ग्राहक जोड़ने के चक्कर में, हम पुराने ग्राहक पर ध्यान नही देते. पुराने ग्राहक इस को भांप लेता है. जिसका असर आपकी बिक्री पर पड़ सकता.

unfortunately, कई व्यवसायी यह नहीं समझ पाते हैं कि, उन्हें ज्यादा नए ग्राहकों को प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयास करने के बजाय ग्राहक प्रतिधारण (customer retention) पर ध्यान देना चाहिए. in fact नए ग्राहकों को प्राप्त करने में मौजूदा ग्राहकों को बनाए रखने की तुलना में पांच गुना अधिक खर्च होता है. इसके अलावा, वफादार ग्राहक बेहद लाभदायक हो सकते हैं, क्योंकि आप उन्हें बेचने की अधिक संभावना रखते हैं.

इसलिए, एक प्रभावी ग्राहक प्रतिधारण (customer retention) रणनीति चुनने से आपके राजस्व पर बहुत प्रभाव पड़ सकता है. अच्छी ग्राहक प्रतिधारण रणनीतियाँ व्यवसायों को ऐसे ग्राहकों से जुड़ने में मदद करती हैं जो अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच अपने पसंदीदा ब्रांडों को बढ़ावा देना चाहते हैं. यह ध्यान रखे कि, खरीदारी करने के बाद आपके ग्राहकों के साथ आपके संबंध समाप्त न हों.

मार्केटिंग

बिजनस को expand (बढ़ाने) के लिए और अधिक से अधिक ग्राहकों तक पहुँच बनाने के लिए marketing सबसे बड़ा जरिया होता है. ग्राहकों की जरुरतो का अध्ययन करके आप अपनी marketing planning को प्रभावशाली बना सकते है.

आज के समय में सोशल मिडिया प्लेटफार्म और इंटरनेट के माध्यम से मार्केटिंग कर करोडो लोगो तक पहुँच बनाई जा सकती है. सोशल मीडिया लगातार बिज़नस के सभी सेक्टर के लिए marketing करने का अहम टूल बन गया है.

निजी जीवन को व्यासायिक जीवन से न जोड़े (business management tips in hindi)

व्यक्तिगत जीवन को व्यावसायिक जीवन से अलग रखे. हर किसी का व्यक्तित्व अलग होता है और सभी के साथ तालमेल बिठाना भी आसान नही होता. इसलिए यदि आप बिज़नस में नए है और अपने व्यवसायों का विस्तार करना चाहते हैं, तो आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि, आपको किसी के साथ सबसे अच्छे दोस्त होने की जरुरत नहीं है.

आपके पास ऐसे कर्मचारी और साझेदार होंगे जिनसे आप हर दिन नहीं मिलते हैं, लेकिन दिन के अंत में, हर कोई नौकरी करने के लिए होता है, न कि सामाजिककरण करने के लिए. अगर आपके और किसी कर्मचारी के बीच कोई व्यक्तिगत समस्या है तो उसे ऐसे ही निपटारा करे. इसे अपना निजी मुद्दा नही बनाए. इसी तरह, अगर उनके काम में कोई समस्या है, तो जब आप उनसे इस बारे में बात करें तो इसे अपना निजी मामला न बनाएं.

employee hire करते समय ध्यान रखे

बिज़नस में आप अकेले कुछ बड़ा नही कर सकते. इसलिए कुछ एम्प्लोय या एक्जीक्यूटिव हायर कर सकते है. employee या एक्जीक्यूटिवस को हायर करते हमे कुछ महत्वपूर्ण बातो को ध्यान में रखना चाहिए. जैसे employee आपके बिज़नस niche (आधार) को ध्यान रखकर चुने. जो मेहनती, कुशल और व्यवहारिक हो. उनमे रचनात्मकता (क्रिएटिविटी) हो और मॉडर्न टेक्नोलॉजी के अच्छे जानकर हो.

अपनी कंपनी या बिज़नस के लिए नए कर्मचारियों की भर्ती करते समय आपको अतिरिक्त स्मार्ट होने की आवश्यकता है. कम योग्यता वाले लेकिन काम के प्रति सही दृष्टिकोण रखने वाले प्रतिभाशाली और मेहनती लोगों को काम पर रखने पर विचार करें. एक्सपर्ट्स यह भी सलाह देते है कि, इमोशनल होकर employee हायर न करे. कभी भी अपने सगे सबंधी, रिश्तेदार या किसी मित्र को काम पर नही रखे. भविष्य में इनके साथ आपसी मनमुटाव या अनबन होने पर, आपको और कम्पनी को नुकसान हो सकता है.

प्रशंसा एव प्रेरित करे (बिजनस में सफलता के टिप्स)

इस दुनिया में सबसे बुरा बॉस वह होता है जो अपने एम्प्लोई की कभी प्रशंसा नही करता. कुछ लोग दुसरो की प्रशंसा करने में कंजूसी करते है. उनका ego उन्हें यह करने नही देता. एक्सपर्ट्स का मानना है कि, एम्प्लोई की काबिलियत को निखारने पर उसकी प्रशंसा करे. ऐसा करने से एम्प्लोई में काम करने की क्षमता और गुणवत्ता बढती है. किसी बिजनस या स्टार्टअप की सफलता, जितना आईडिया एव कॉन्सेप्ट पर निर्भर करती है,

उतना ही एम्प्लोईज की मेहनत का भी योगदान होता है. आप ये देखिए कि, आप एम्प्लोई का काम के प्रति इंटरेस्ट किस प्रकार बनाए रख सकते है. इसके अलावा उन्हें प्रोत्साहित करे. ऑफिस किसी एम्ल्पोई के अच्छे काम करने पर या अतिरिक्त काम करने पर उसका प्रोत्साहन करे. याद रखे कि प्रोत्साहन ही अच्छे काम को सर्वश्रेष्ठ अंजाम तक पहुंचा सकता है.

रीन्वेंट करे

एक बार जब आपका बिज़नस ग्रो (grow) करने लग जाए तब आपको उन चीजो पर इन्वेस्ट कर सकते है. जिन्हें आप जरुरी समझते है. यह आपके बिज़नस को upgrade या reinvent करने का एक तरीका है. क्योंकि एक ग्राहक को हमेशा कुछ नयापन और नया एक्सपीरियंस चाहिए होता है. आप अपने वित्त का कुछ हिस्सा 2% 5% या 10% हर साल अपने बिज़नस को reinvent करने में लगा सकते है. इसके परिणाम आपको आश्चर्यजनक लाभ दे सकते है.

“यदि आप में कड़ी मेहनत सीखने की लालसा और समर्पण भाव है तो आप उस मंजिल तक पहुंचकर रहेंगे जहां कि आप कल्पना करते हैं”

Business management tips in hindi

इनको भी पढ़े -:

Job vs Business in Hindi – नौकरी करें या बिजनेस, किसको चुने?

गांव में बिजनेस करने का तरीका – आसन और कम लागत में

इस आर्टिकल में हमने बिजनेस मे सफलता small business management tips and trick in Hindi, and how to improve business in Hindi, how to business development in Hindi, upay for business growth in Hindi आपके साथ शेयर की है. यह आर्टिकल (business management tips in hindi language) आपको कैसा लगा. कोमेंट बॉक्स में जरुर बताए.

1 thought on “business management tips in hindi, बिजनस में सफलता के टिप्स हिंदी में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *