Skip to content

दुनिया का सबसे गर्म देश कौन सा है – बिल्कुल मंगल की सतह जैसी

affrica country on globe

दुनिया का सबसे गर्म देश कौन सा है – दुनिया की सबसे सूखी जगह जहाँ पर पानी की एक बूँद तक कहीं देखने को नही मिलती. यहाँ पर बिना पानी के भटक जाने का मतलब सिर्फ मौत है. यहां इंसान तो क्या पेड़-पौधों का जिंदा रहना भी मुमकिन नही है. इंसान आज तक मंगल ग्रह पर नही गया. लेकिन धरती पर एक ऐसी जगह है जो, बिल्कुल मंगल की सतह जैसी है. वही बंजर लाल रंग की रेत, सूखी हुई पहाड़ियाँ, सूखे हुए गड्ढे और करोड़ों सालों से लगातार पड़ने वाला कठोर सूखा. अंतर सिर्फ इतना है कि, यहां पर साँस लेने के लिए हवा और वायुमंडल मौजूद है.

दुनिया का सबसे गर्म देश कौन सा है

duniya ka sabse garm desh kaun sa hai – “डानाकिल डिप्रेशन” दुनिया की सबसे गर्म, सबसे सूखी और धरती पर सबसे नीचली जगह है. ये इथियोपिया के ‘अफार’ नामक इलाके में पड़ती है. यहां का वातावरण बेरहम है.
डानाकिल डिप्रेशन ये जगह उत्तरी अफ्रीकी देश इथियोपिया में है. इसका एक हिस्सा पड़ोसी देश इरीट्रिया से मिलता है. बेहद खराब माहौल होने के बावजूद भी यह जीवन मौजूद है. इथियोपिया के अफ़ार समुदाय के लोग ने विपरीत परिस्थिति वाले ठिकाने को अपना घर बना लिया है.

डानाकिल डिप्रेशन को दुनिया का सबसे गर्म स्थान इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां पूरे साल औसत तापमान 34.4 डिग्री सेल्सियस से भी अधिक रहता है. पृथ्वी पर जो अन्य गर्म स्थान हैं, वहां औसत तापमान इतना अधिक नहीं रहता. लेकिन कभी-कभी बहुत ज़्यादा गर्मी जरूर पड़ती है.
लेकिन डानाकिल डिप्रेशन’ में औसत तापमान ही 35 डिग्री सेल्सियस से अधिक रहता है. यहां बारिश का कोई नामोनिशान नहीं मिलता. साल भर में केवल 100-200 मिलीमीटर से भी कम बारिश होती है. एक बात और जो इस जगह को बेहद खतरनाक बनाती है ‘डानाकिल डिप्रेशन समुद्र तल करीब 115 मीटर नीचे है.

‘डानाकिल डिप्रेशन’ में सिर्फ़ धरती के ऊपर का माहौल हीं ख़राब नहीं है. यहां तो धरती के अंदर भी हलचल मची हुई है. ये वो जगह है जहां पर तीन टेक्टॉनिक प्लेट्स आपस में मिलती हैं. और इन्हीं प्लेटो पर हमारे महाद्वीप और महासागर स्थित हैं.

इस जगह पर जो तीन टेक्टॉनिक प्लेटें हैं वो सालाना एक से दो सेंटीमीटर की दर से एक दूसरे से अलग होती जा रही हैं. धरती के भीतर मची-इस उथल-पुथल के कारण धरती के भीतर की आग अक्सर यहां बाहर निकल आती है. पिघला हुआ लावा यहां बड़े इलाक़े में फैला हुआ है.पूरे क्षेत्र में कई सारे ज्वालामुखी हैं, जो आग और गर्म राख उगलते हैं.

यदि आप डानाकिल डिप्रेशन घूमने जाएं तो आपको लगेगा कि आप धरती पर नहीं, मंगल ग्रह पर पहुंच गए हो. यहां का मौसम बेहद गर्म और रूखा है. यहां गड्ढों में लावा पिघलता रहता है. यहां के इलाकों में लावे के ठंडा होने पर चट्टानें और पहाड़ियां बन जाती है.

चूँकि यहाँ इस क्षेत्र में धरती के अन्दर आग लगी हुई हैं. इसलिए ‘डानाकिल डिप्रेशन’ में गर्म पानी के कई स्रोत हैं, झरने हैं. जैसे ही पानी बाहर आता हैं तेज गर्मी के कारण सुख जाता हैं. इसलिए इस इलाके में नमक की कई खदानें भी मिली हैं.

जिस तेजी से ‘डानाकिल डिप्रेशन’ के नीचे धरती खिसक रही है, उससे लाखों साल बाद यहां गहरा गड्ढा होने वाला है. जिससे लाल सागर का पानी इसमें भर जाएगा. और एक विशाल समुद्र में तब्दील हो जाएगा.

वैज्ञानिकों का मानना है कि, इसी जगह(दुनिया का सबसे गर्म देश) से इंसान का विकास शुरू हुआ था. 1974 में वैज्ञानिक डोनाल्ड जॉनसन और उनकी टीम ने यहीं पर लूसी नाम का कंकाल खोजा था. वो ऑस्ट्रेलोपिथेकस नस्ल का था जिसे इंसान के सबसे पुराने रिश्तेदार मान जात हैं. आधुनिक मानव से पहले के कई नस्लों के कंकाल अवशेष यहां से मिले हैं. इसीलिए वैज्ञानिक इसे इंसान के विकास का पहला स्थान मानते हैं.

डानाकिल डिप्रेसन का निर्माण कैसे हुआ ?

हमारी पृथ्वी के निचे सात मुख्य और 32 छोटी प्लेट्स मौजूद हैं. जिनके विचरण से अनेक आंतरिक गतिविधियाँ होती हैं. इन प्लेटो की गति से ही भूकंप, जवालामुखी आते हैं. सोमाली और न्युबियन प्लेट्स के उपर स्थित डानाकिल डिप्रेसन जो की सबसे गर्म स्थान हैं. ऐसा अनुमान लगाया हैं की लाखों वर्षो के बाद ये दोनों प्लेट्स पूर्ण रूप से अलग हो जाएगी और यहाँ पर एक महासागर बेसिन बनेगा. डानाकिल डिप्रेसन के नीचे एक मेग्मा का बड़ा भंडार हैं, जो अत्यंत गर्मी उत्पन्न करता हैं.

डेथ वैली, कैलिफोर्निया

विश्व मौसम विज्ञान संगठन के ग्लोबल वेदर एंड क्लाइमेट एक्सट्रीमेस आर्काइव के अनुसार, डेथ वैली में तापमान अंतरराष्ट्रीय चरम सीमा पर पहुंच गया जब उन्होंने 1913 में 134 डिग्री फ़ारेनहाइट – दुनिया में कहीं भी दर्ज किया गया सबसे गर्म तापमान दर्ज किया। यद्यपि कुछ वैज्ञानिक ऐतिहासिक तापमान रीडिंग की विश्वसनीयता पर बहस करते हैं, डेथ वैली ने पिछली गर्मियों में कथित तौर पर 130 डिग्री फ़ारेनहाइट मारा, इसलिए, इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह पृथ्वी के सबसे गर्म स्थानों में से एक है।

Oodnadatta, ऑस्ट्रेलिया

विश्व मौसम विज्ञान संगठन के ग्लोबल वेदर एंड क्लाइमेट एक्सट्रीम आर्काइव के अनुसार, दक्षिणी गोलार्ध में दर्ज ऊदनादत्त, ऑस्ट्रेलिया का तापमान सबसे ऊँचा है। यह जनवरी 1960 में 123 डिग्री तक पहुंच गया।

केबिली, ट्यूनीशिया

केबिली, ट्यूनीशिया, पूर्वी गोलार्ध में दर्ज उच्चतम तापमान के लिए रिकॉर्ड रखता है, जिसमें जुलाई 1931 में 131 डिग्री चिह्नित किया गया था।

मेरिबा, कुवैत

मेरिबा, कुवैत, ने WMO के क्षेत्र II में उच्चतम तापमान दर्ज किया, जो जुलाई 2016 में एशिया के अधिकांश हिस्सों को घेरता है, जब उसने 129 डिग्री फ़ारेनहाइट का अनुभव किया।

तुरबत, पाकिस्तान

मई 2017 में, टर्बट ने एशिया में दर्ज किए गए सबसे गर्म तापमानों में से एक, 128.7 डिग्री तक पहुंचने वाली धमाकेदार गर्मी का अनुभव किया।

रिवादिया, अर्जेंटीना

डब्ल्यूएमओ के अनुसार, रिवाडविया ने दिसंबर 1905 में 120 डिग्री की रिपोर्टिंग करते हुए दक्षिण अमेरिका में दर्ज उच्चतम तापमान का दावा किया।

तिरत त्सवी, इज़राइल

जून 1942 में 129 डिग्री के उच्चतम प्रलेखित तापमान के साथ, इज़राइल में तिरत त्सवी WMO के क्षेत्र VI (यूरोप, मध्य पूर्व और ग्रीनलैंड सहित) के स्थानों के बीच रिकॉर्ड रखता है।

एथेंस, ग्रीस

संसार का सबसे बड़ा airport

एथेंस, ग्रीस ने जुलाई 1977 में महाद्वीपीय यूरोप का रिकॉर्ड बनाया, जब उसने अपना उच्चतम तापमान – 118.4 डिग्री देखा। यदि केवल एक्रोपोलिस को वातानुकूलित करना था!

लुट रेगिस्तान, ईरान

नासा उपग्रह इमेजिंग ने दुनिया के सबसे गर्म स्थानों, भूमि की त्वचा के तापमान (हवा के तापमान को डब्लूएमओ उपयोग करता है) के बजाय हार्ड-टू-पहुंच, दूरस्थ क्षेत्रों में रिकॉर्ड किया। और 2012 के एक लेख में बताया गया कि ईरान में दश्त-ए लुट 2005 में 159.3 डिग्री फ़ारेनहाइट तक पहुंच गया।

ज्वलंत पर्वत, चीन

“फ्लेमिंग माउंटेंस” जैसे नाम के साथ, यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि यह क्षेत्र बहुत गर्म है। यह स्थान नासा के अनुसार, 2008 में 150 डिग्री फ़ारेनहाइट (भूमि त्वचा तापमान) से गुज़रा।

इस पोस्ट में हमने जाना कि दुनिया का सबसे गर्म देश कौन सा है अगर आपको हमारा कंटेंट अच्छा लगे तो दूसरी पोस्ट भी पढ़ सकते हैं.

हड़प्पा सभ्यता का विशालतम नगर जानो कोनसा हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.