Skip to content

एक खुनी संयोग – PART 4

bold text written khooni sanyog part 4

एक खुनी संयोग – PART 4


एक खुनी संयोग – PART 4

एक खुनी संयोग MYSTERY STORY IN HINDI का पार्ट चौथा पढने जा रहे हैं. अगर आपने पहला, दूसरा, तीसरा पार्ट नहीं पढ़ा हैं तो इस MYSTERY के नीचे तीनो पार्ट की लिंक हैं, आप वहां से पढ़ सकते हैं.
डिटेक्टिव को अब इस केस के तह तक पहुंचना हैं. अब तक डिटेक्टिव को ये मालूम पद गया कि हत्या किसी लड़की ने ही की हैं. पहचान का जरिया केवल एक ही हैं जरूर शरीर का अंग डिफेक्ट होगा. अब वो कौन हैं? इसका पता लगाना हैं.
डिटेक्टिव ने ओलिवा से मीटिंग चालू की..
ओलिवा आप सबसे पहले अपने पांचो फ्रेंडस सर्किल के बारे में बताएं.
ओलिवा (पब्लिक सर्विस)…… हम पांचों का एडमिशन एक दिन ही हुआ था. इसलिए हमारा नाम एक ही रखा. हम पांचो बहनो की तरह रहती थी.
एक कमरे में रहना. कपडे शेयर करना, एक साथ पढना सब कुछ एक साथ साथ करते थे.
अच्छा आप पांचवी ओलिवा के बारे में कुछ बताएं….
सॉरी सर बट वो अभी इस दुनिया में नहीं हैं….. उसकी तो हमारे कॉलेज की लास्ट इयर में ही डेथ हो गई.
डिटेक्टिव व्हाट…… पांचवी ओलिवा की डेथ सबसे पहले हुई? क्या मैं रीज़न जन सकता हूँ कि ओलिवा की डेथ किस कारण से हुई?
सर ओलिवा सबसे अलग थी. वह हमेशा लोगो की सेवा करने में लगी रहती थी. वह PWD बच्चो के लिए अक्सर कुछ किया करती थी. ओलिवा के पैर की अंगुलिया कटी हुई थी.
जब हम आठवी क्लास में थे तब एक डांस प्रोग्राम में किसी ने ओलिवा को हराने के लिए उसके पैर की अंगुलिया काट दी थी. लेकिन इसके बावजूद ओलिवा ने कभी हिम्मत नहीं हारी, बल्कि वह मेहनत करती रही, और डांस से कई इनाम और बहुत सारे पैसे जीते. उन्ही पैसो से ओलिवा लोगो की हेल्प किया करती थी.
डिटेक्टिव…….अभी भी शॉक में………. अच्छा ओलिवा की उम्र क्या रही होगी……जब वह मरी थी…..
यही 29 साल की उम्र में उसकी मौत हुई थी.
हम पांचो बहनों का एक ही सपना था… बड़े होकर सभी मिलकर एक बहुत बड़ा हॉस्पिटल खोलेंगे. इसलिए हम सभी बहनों ने अलग अलग कोर्स किये. मैंने पब्लिक सर्विस, एक ने डॉक्टर, दूसरी ने बैंकिंग, तीसरी ने कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट का कोर्स किया.
डिटेक्टिव…….और ओलिवा….जिसकी लास्ट इयर में डेथ हो गई…..
उसने इन्जिनीरिंग का कोर्स किया था….
ओलिवा की डेथ एक अचानक घटना हैं सर! उन दिनों जब हम गोसिया ग्रास फील्ड के लिए लड़ाई पर थे, तो उस टाइम अचानक किसी ने ओलिवा की हत्या कर दी थी.
डिटेक्टिव ….क्या आपको ओलिवा की डेड बॉडी मिली?
जी सर! उसकी बॉडी मिली थी. हमने उसको दफनाया भी था.
अच्छा आप गोसिया ग्रास के बारे में कुछ जानती हैं…..


जी सर हम वहीँ पर अपना हॉस्पिटल बनाने वाले थे. हमने बड़ी मुश्किल से वो जमीन खरीदी. ओलिवा ने तो सबसे आगे रहकर इसके लिए लड़ाई की थी.
डिटेक्टिव ….अच्छा आप हॉस्पिटल तो, PWD के लिए बनवाने वाले थे तो फिर इसके विरूद्ध खड़ा होने की हिम्मत किसने की?
जी सर इसके पीछे कोई पोलिटिकल इशू था, आपको याद हो तो, तीन साल पहले जब गोसिया ग्रास फिल्ड को लेकर पार्लियामेंट में इश्यु उठा था. सर वह जमीन बीस साल पहले सरकार ने किसी सार्वजनिक काम के लिए सुरक्षित रखी थी. लेकिन अभी गवर्नमेंट इस जमीन को किसी मल्टी नेशनल कंपनी के लिए बेचना चाहती हैं. ये कैसे हो सकता हैं. इसीलिए हम सभी लड़ाई के लिए उतर आये थे.

अच्छा मुझे कुछ और रिसर्च करनी हैं. तो मैं आपसे सुबह मिलता हूँ. आपके सिक्यूरिटी मेरे लिए इम्पोर्टेन्ट हैं. तो में अपनी टीम से कुछ मेम्बर को आपके लिए भेजता हूँ. ओके!

डिटेक्टिव ने दिवार के ऊपर दो पंच मारे…. एक मरा हुआ इंसान… कैसे तीन लोगो को मार सकता हैं…… डिटेक्टिव के सारे परिक्षण असफल रहे.
डिटेक्टिव के पास दो विकल्प थे. एक ओलिवा (पब्लिक सर्विस) सब कुछ झूठ कह रही हैं, दूसरा सब सच कह रही हैं. लेकिन अगर सब कुछ सच हैं तो तीनो को मारा क्यों, तीनो तो बहने थी. अगर झूठ हैं, तो इसका मतलब चारो बहनों में कोई खोट हैं.
डिटेक्टिव ……अब मुझे यह पता लगाना होगा कि जो भी ओलिवा ने कहा उसकी सच्चाई कितनी हैं?
अगली सुबह…….
सर सर! एक शॉकिंग न्यूज़……
वो ओलिवा मेडम… का मर्डर हो गया हैं. ठीक उसी तरह जिस तरह से तीनो का हुआ हैं.
डिटेक्टिव………… व्हाट…..मर्डर …..ओह माय गॉड ……
ये कैसे हो सकता हैं. मैंने तुम लोगो को उसकी निगरानी रखने के लिए कहा था, फिर कैसे हुआ?
सर मेन गेट से कोई अन्दर नहीं गया.
ओके लोकेशन का ठीक से ऑब्जरवेशन करके एवा को कॉल लगा दो. मैं अभी आता हूँ?
डिटेक्टिव के पास अब और कोई चारा नहीं था. डिटेक्टिव सीधा उस जगह पर गया, जहाँ पर वो पांचो पली बड़ी.
वहां से पता चला की उस टाइम जो वार्डन थी उसकी भी डेथ हो गई. उनकी सहेलियों और कॉलेज के दोस्तों से बात की, तो सब ने उन पांचो बहनों को अच्छा बताया. किसी के पास कोई नयी जानकारी नहीं थी. लगभग लगभग ओलिवा(पब्लिक सर्विस) ने सब कुछ सही बताया. लेकिन उन पांचों के मन की बात तो वो ही जाने.
डिटेक्टिव….. के पास अब जानने के लिए कोई नया रास्ता नहीं था.
वह एक शांत जगह बैठ गया, और पूरे केस का निचोड़ निकालने लगा. मैं इस पूरे मामले को दो भागो में बात सकता हूँ, एक, चारो ओलिवा अलग और पांचवी अलग.
लेकिन अब तक के सबुत तो ये गवाही देते हैं की चारो ओलिवा की हत्या, पांचवी ओलिवा ने की हैं. अगर पांचो बहनों में एकता थी तो उसने इन चारो की हत्या क्यों की होगी. एसा भी हो सकता हैं की चारो बहनों ने कुछ अलग ही सोच लिया था. अगर ऐसा होता हैं तो, इन चारो को मारने के लिए एक आत्मा आयी. मेरी इस बात का कौन विश्वास करेगा? कहीं एसा तो नहीं, किसी ने शाजिस रची हो. अगर साजिश हो तो फिर वो डीएनए और बाल.
ओह माय गॉड… दुसरे केस में कुछ 9 नंबर के शूज… इसका मतलब ओलिवा जो लास्ट इयर में मरी थी. वह आर्टिफिशियल चप्पल पहनती थी. अब तो पक्का लग रहा हैं की इन चारो की हत्या ओलिवा ने ही की हैं.
लेकिन अब इसका स्टेटमेंट कैसे बनाउ. क्या कहकर इस केस को एंड करूँ?….. I HAVE NO OTHER OPTION.
मुझे लगता हैं ये केस एक मिस्ट्री बनकर ही रह जायेगा. मेरे पास एक और विकल्प हैं. मैं इस केस को IB को सौप दूँ.
मैं यहाँ पर अपने आपको समर्पित करता हूँ, अपने सारे हथियार को डालता हूँ. अब मुझमे इतनी शक्ति नहीं की मैं इस केस को सोल्व कर सकूँ.
अब मुझे इस मिस्ट्री को यही पर छोड़ देना चाहिए.
पता नहीं….. वो चारों बहने सही थी या, पांचवी. खैर पांचो में से कोई भी अब इस दुनिया में नहीं हैं. अब न तो हॉस्पिटल बनेगा, न कोई और ओलिवा मरेगी. ये एक मिस्ट्री हैं और मिस्ट्री बनकर ही रहेगी.

तो यह था एक खुनी संयोग – MYSTERY STORY IN HINDI का अंतिम पार्ट आपको यह मिस्ट्री(खुनी संयोग – MYSTERY STORY IN HINDI) कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताना. अगर आपने तीनो पार्ट नहीं पढ़े तो यहां से पढ़ सकते हैं.

यह MYSTERY – एक खुनी संयोग – का लेखक PRAVEEN KUMAR SIRVI मैं ही हूँ. यह कहानी पूर्ण रूप से काल्पनिक हैं, सभी पात्र और किरदार काल्पनिक हैं. इस कहानी का असलियत में कोई आधार नहीं हैं.

PART 3

PART 2

PART 1

LAPTA BHAI

Leave a Reply

Your email address will not be published.