Skip to content

Fox and grapes story in Hindi – लोमड़ी और खट्टे अंगूर कहानी

लोमड़ी और खट्टे अंगूर

Jump On Query -:

the fox and the grapes story in hindi लोमड़ी और खट्टे अंगूर

लोमड़ी और खट्टे अंगूर – अंगूर खट्टे हैं – hungry fox story in hindi
hungry fox and sour grapes

11 लोमड़ी और खट्टे अंगूर(the fox and sour grapes)

एक बार एक लोमड़ी थी. जिसका नाम चम्पू था. चम्पू ने दो दिनों से कुछ नहीं खाया था. चम्पू अपनी सभी कोशिशो के बावजूद भी खाने को कुछ नहीं ढूंढ सकी.
अंत में, चम्पू को बहुत तेज भूख लगी वह एक किसान की बगिया के पास चली गयी. चम्पू ने देखा की किसान के खेत में बहुत सारे अंगूर लगे हुए थे. चम्पू ने एक अंगूर का गुच्छा ऐसा देखा जो उसने पहले कभी नहीं देखा. उस अंगूर का रंग बैंगनी था, चम्पू ने निश्चय किया वह इन अंगूरों का स्वाद लेकर रहेगी.
अंगूर तक पहुंचने के लिए चम्पू लोमड़ी को हवा में ऊंची कूद लगानी पड़ी। जैसे ही उसने छलांग लगाई, उसने अंगूर पकड़ने के लिए अपना मुँह खोला, लेकिन वह चूक गयी। चम्पू ने फिर कोशिश की लेकिन फिर से चूक गई।
चम्पू ने कुछ और बार कोशिश की लेकिन असफल रही।
अंत में, चम्पू लोमड़ी ने फैसला किया कि बगिया छोड़ने और जाने का समय है। जब वह चली गयी, तो उसने कहा, “मुझे यकीन है कि अंगूर भी खट्टे होंगे,इनको खाने से कोई फायदा नहीं हैं.”

सीख – जो हमारे पास नहीं है उसके लिए कभी भी घृणा न करें , हर चीज सभी के लिए संभव नहीं होती हैं.।

READ ALSO -: ईमानदारी का किस्सा 

गौतम बुद्ध की कहानियां

12 घमंडी गुलाब(rose story in hindi)

एक समय की बात हैं कि एक सूखे मरुस्थल में एक सुन्दर गुलाब के फूल का पौधा था. उस पौधे पर एक फूल लगा हुआ था. गुलाब के उस फूल को खुद पर कुछ ज्यादा ही घमंड था.

गुलाब के उस फूल को अपने पास बड़े हो रहे केक्टस से शिकायत थी.

रोजाना सुबह होते ही गुलाब अपनी सुन्दरता की तारीफ करता और केक्टस की बदसूरती की मजाक उड़ाता. केक्टस बड़ा ही समझदार था, वह अक्सर गुलाब की बातें सुनकर चुप हो जाया करता था.

समय पलटा और एक समय ऐसा आया कि चिलचिलाती गर्मी पड़ी और पानी के सारे स्रोत सुख गए. गुलाब की सुन्दरता गर्मी में खोने लगी, उसकी ख़ूबसूरत पंखुड़ियों को खो दिया और रसीला रंग भी उड़ने लगा.

  एक दिन उड़ता हुआ एक पक्षी आया और कैक्टस में चोंच डालकर पानी पिने लगा.

गुलाब ने डरते संभलते केक्टस से पुछा – क्या तुम मुझे पिने के लिए कुछ पानी दे सकते हैं.

केक्टस ने बिना कोई नाराजगी दिखाए पानी देने के लिए राजी हो गया.

गुलाब ने पानी पिया, और केक्टस को धन्यवाद दिया. इसके बाद दोनों बहुत अच्छे मित्र बन गए.

सीख – कोई किस तरह से दिखता हैं, इस विषय को लेकर न्याय न करें.

13 एक बुद्धिमान बूढ़ा उल्लू (owl story in hindi)

एक बूढ़ा उल्लू था जो एक ओक के पेड़ में रहता था। हर दिन, वह उल्लू अपने आस-पास घटने वाली घटनाओं का अवलोकन किया करता था।

कल, उसने देखा कि एक युवा लड़के ने एक बूढ़े व्यक्ति को एक भारी टोकरी ले जाने में मदद की। आज उसने अपनी माँ पर एक जवान लड़की को चिल्लाते हुए देखा। इस प्रकार उल्लू लोगो के साथ होने वाली घटनाओ का अवलिकन किया करता तह.

जैसे-जैसे दिन बीतते गए, उल्लू ने बोलना कम कर दिया और लोगो को सुनना शुरू कर दिया. बूढ़े उल्लू ने लोगों को बातें करते देखता और उनकी कहानी को समझता.

उल्लू ने एक महिला को देखा जो कह रही थी वह एक हाथी के बाड़े में कूद गयी थी. उसने एक आदमी को यह कहते हुए सुना कि उसने कभी गलती नहीं की।

बूढ़े उल्लू ने देखा और सुना कि लोगों को क्या हुआ है। कुछ ऐसे थे जो बेहतर हो गए, कुछ ऐसे हो गए जो बदतर हो गए।
लेकिन पेड़ में रहने वाला बुढा उल्लू हर दिन, समझदार हो रहा था।

सीख – अधिक चौकस रहें, कम बात करें और अधिक सुनें. यह हमें बुद्धिमान बना देगा।

14 सुनहरा अंडा(the golden egg story in hindi)

एक बार, एक किसान के पास एक बत्तख थी जो हमेशा एक सुनहरा अंडा देती थी। अंडे की बदौलत किसान और उसकी पत्नी को उनकी दैनिक जरूरतों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त पैसा मिला। किसान और उसकी पत्नी बहुत लंबे समय तक अंडे की कमाई से खुश रहे।

लेकिन एक दिन किसान ने सोचा – रोजाना का एक अंडा लेना उचित हैं क्या? अगर सभी अन्डो के एक साथ ले ले तो एक साथ बहुत सारी कमाई हो जाएगी. यह विचार किसान ने अपनी पत्नी को बताया, वह भी इसकी मुर्खता से सहमत हो गई.

फिर, अगले दिन, जब बत्तख ने अपना सुनहरा अंडा दिया, तो किसान को तेज चाकू से काट दिया गया। उसने बत्तख को मार डाला और उसके सभी सुनहरे अंडों को खोजने की उम्मीद में उसका पेट को खुला काट दिया। लेकिन, जैसे ही उसने पेट खोला, केवल खून और मांस था।

किसान ने अपनी मूर्खतापूर्ण गलती को महसूस किया और अपने खोए हुए संसाधन पर खूब रोये। जैसे-जैसे दिन बीतते गए, किसान और उसकी पत्नी और गरीब और गरीब होते गए। कितना झकझोरा और वे कितने मूर्ख थे।

सीख – लालच बुरी बला हैं.

दानवीर पेड़ की कहानी

return to

Leave a Reply

Your email address will not be published.