Skip to content

Krishna Quotes in Hindi – Jai Shree Krishna


Krishna Quotes in Hindi -: भगवान श्री कृष्ण बुद्धि और प्रेम के प्रतीक हैं. बचपन में श्री कृष्ण ने अनेक रासलीलाएँ की थी, भगवान श्री कृष्ण की 16000 गोपियाँ होते हुए भी उन्होंने अपनी मर्यादा को बनाये रखा, यह उनके भगवान होने का प्रतीक हैं. फिर जब महाभारत का युद्ध हुआ तो कुरुक्षेत्र में दिए गए गीता के उद्वरण(Krishna Thoughts in Hindi), आज पूरी दुनिया के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं.

Lord Krishna Quotes in Hindi


भगवान कृष्ण की शिक्षाएं और सुविचार मानव जाति के हर पहलु और युगों पर लागू होती हैं, भगवान कृष्ण के सुविचार अनेक पीढ़ियों तक उनके ज्ञान को समाहित करते हैं.


हमारी आत्मा आध्यात्मिक रूप से सो रही हैं. जिस प्रकार एक अलार्म घडी एक सोते हुए आदमी को जगा देती हैं उसी तरह भगवान कृष्ण के सुविचार आध्यात्मिक वास्तविकता के प्रति जागृत करने में भूमिका निभाते हैं.

Lord Krishna Quotes in Hindi


यदि आप जीवन से संबंधित ज्ञान प्राप्त करने के लिए या खुद को प्रेरित करने के लिए श्री कृष्ण सुविचार की तलाश कर रहे हैं तो आपको यहां सबसे अच्छे और सुविचार मिलेंगे.

भगवान कृष्ण करुणा, कोमलता, प्रेम के देवता हैं और भारतीय देवताओं में सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से पूजनीय हैं.


भगवान् कृष्ण ने अपने प्रेरक शब्दों से अर्जुन को कुरुक्षेत्र युद्ध में प्रेरित किया है. उन्होंने हमें जीवन, प्रेम, खुशी, धर्म, मोक्ष (मुक्ति), भक्ति, योग, ध्यान, धर्म, सत्य सभी के बारे में सब कुछ सिखाया. उन्ही को आधार बनाकर हम पेश कर रहे हैं – Shree Krishna Quotes n Hindi

Shree Krishna Quotes In Hindi

अच्छाइयों की रक्षा के लिए, दुष्टों के विनाश के लिए, धर्म की दृढ़ता से स्थापना करने के लिए, मैं युगों-युगों से जन्म लेता आया हूँ, और आगे भी इसी तरह लेता रहूँगा.

विस्तार – जब जब इस धरती पर अधर्म और पाप की महिमा बढ़ जाती हैं तब तब भगवान अवतरित हुए हैं. रावण को पापों से मुक्त करने के लिए भगवान् श्री राम को इस धरती पर आना पड़ा था. प्रह्लाद को हिरण्यकश्यप से बचाने के लिए भगवन को नरसिंह का अवतार लेना पड़ा था. ईश्वर एक हैं उनके रूप अनेक हैं. भगवान् अपने भक्तो के संरक्षण के लिए हर हालत में अवतरित होते हैं.

आत्मा को प्रदूषित करने और नरक की तरफ बढ़ने के तीन दरवाजे हैं – वासना, क्रोध और लालच.

विस्तार – आत्मा वह पवित्र स्थान हैं जहाँ भगवान का वास होता हैं. अगर इस आत्मा को वासना क्रोध जैसे गंदे विचारों से भरते हो तो आत्मा रूपी मंदिर ईश्वर के आशीर्वाद से खाली हो जाता हैं. जहाँ ईश्वर का वास नहीं होता हैं, वह नरक के समान ही तो हैं.

मनुष्य अपने विश्वासों के परिणामस्वरूप ही बनता है. जिस तरह से वह यकीं कर लेता हैं, उसी तरह वह बन जाता हैं.

विस्तार – अगर आप किसी एक विषय को अपना लक्ष्य बनाकर उस पर सतत चिंतन मंथन करते हैं तो निश्चित ही आप उसको हासिल कर लेते हो. इसके लिए आपको उस विषय को स्वीकार करना होगा, उसको मानना होगा, एक बार जब आप उसमे खो जायेंगे, फिर आप वहीँ बन जायेंगे.

असली ख़ुशी की कुंजी यहीं हैं कि अपने मन से इच्छाओं के बोझ को हल्का कर दो.

विस्तार – केवल एक, अगर मेरी कोई इच्छा ही नहीं तो मुझे किस बात की चिंता, किसी के पास कुछ होने ओर मेरे पास न होने का दुःख इसलिए होता है क्योंकि मैंने भी उस उस चीज से दिल लगाया जो मेरे पास नहीं हैं और वह मैंने किसी और के पास देखी. जिस दिन मेरी इच्छाएं खत्म हो जाएगी, मेरी सारी चिंताएं ख़त्म हो जाएगी.

कुछ पाने की चाहत आप जितनी अधिक रखते हो आप उतने ही निराश होते हैं.

विस्तार – अगर कुछ मिल जाये तो ख़ुशी का ठिकाना नहीं, अगर कुछ न मिले तो दुःख का पहाड़ टूट पड़ता हैं. ये हमारी चाहत ही तो हैं, जो परिस्थितियों के अनुसार हमको बार बार विचलित करती हैं. क्यों न कुछ ऐसा किया जाये जिनसे हमारी सारी चाहत खत्म हो जाये. फिर कुछ मिले या न मिले, हम निराश नहीं होंगे.

आपको जो करना है उसी को करों, घमंड से मत करो, कामना से मत करो, द्वेष भावना से मत करो बल्कि प्यार, दया और विनम्रता से करो.

विस्तार – आपको क्या लगता हैं, आपने जो किया उसका परिणाम वहीँ मिलेगा, जो आप सोच रहे हैं? अगर आपने अपने कर्म मार्ग में अहंकार, इर्ष्या, वासना को शामिल किया हैं तो आपको प्रतिकूल परिणाम मिलेंगे. अपने कर्मो की गति में प्रेम, करुणा को शामिल करे. आपको अपने हर कर्म का सत्फल मिलेगा.

Krishna Gyan quotes

जिसने अपने मन पर विजय प्राप्त कर ली है, उसके लिए मन सबसे अच्छा मित्र है, लेकिन जो ऐसा करने में असफल रहा है, उसके लिए मन सबसे बड़ा शत्रु है.

विस्तार – हमारा मन याद्रच्छिक रूप से भटकता हैं, जो देखता हैं उसी के पीछे भागने लगता हैं. ऐसा मन कभी आपको जितने नहीं देगा, अगर जीत मिल भी गयी तो एक और नया लक्ष्य बना लेगा, फिर उसके पीछे भागने लगेगा. ऐसे में आपका मन आपका सबसे बड़ा शत्रु बन जायेगा. मन से मित्रता करनी हैं तो इसकी कमान अपने हाथ में रखो, कभी इसे अपने से दूर मत भागने दो.

जो कुछ भी हुआ वह अच्छा था. जो हो रहा है वह अच्छा चल रहा है. जो होगा वह भी अच्छा ही होगा. भविष्य के बारे में चिंता मत करो. वर्तमान में जियो.

विस्तार – इन लाइनों में गीता का सार निहित हैं. हमारे द्वारा किये गए प्रत्येक कर्म का एक उद्देश्य होता हैं, जिसका संबंध हमारे भूत, भविष्य, वर्तमान से हो सकता हैं. इसके सही और गलत होने का फैसला हम नहीं कर सकते. हम केवल कर्म कर सकते हैं. इसलिए जो अच्छा हो रहा हैं या बूरा हो रहा हैं, सब कुछ अच्छा ही हैं.

प्रेम के द्वारा ही तुम मुझ पर विजय प्राप्त कर सकते हो, और जहाँ प्रेम हैं वहां मैं आनन्द से जीता हुआ हूं.

विस्तार – भगवान् श्री कृष्ण अपने सुविचार के माध्यम से कहते हैं कि जहाँ पर प्रेम का वास होता हैं वहां, उनकी उपस्थिति प्राप्त की जा सकती हैं. क्लेश, इर्ष्या, द्वेष में ईश्वर का कोई अंश भी नहीं मिलता हैं. इसलिए अपने विचारों और वातावरण को प्रेम से भर दो.

इसे भी पढ़े योग पर सुविचार -: yoga quotes in hindi

इसे भी पढ़े गौतम बुद्ध के सुविचार -: buddha quotes in hindi

जब कोई व्यक्ति दूसरों के दुःख और सुख के प्रति अपने सुख दुःख के भांति व्यवहार करता हैं तो उसने सर्वोच्च आध्यात्मिक मिलन प्राप्त कर लिया है.

विस्तार – यह दुनिया मोह बंधन से बंधी हुई हैं. जो आपका हैं वह सभी का हैं, जो सभी का हैं वह आपका भी हो सकता हैं. भले ही आप कुछ समय के लिए किसी वस्तु को अपने अधीन कर मालिकाना हक़ जमा सकते हैं. ये आध्यात्मिक मार्ग नहीं हैं.
इन्सान को भौतिक वस्तुओं की बजाय भावनात्मक रूप से लोगो से जुड़ना चाहिए, एक दुसरे के सुख दुःख को अपना समझना चाहिए, न कि भौतिक और दैहिक वस्तुओं को.

सभी प्रकार के हत्यारों में, समय सबसे बड़ा हत्यारा हैं, क्योंकि समय सब कुछ मार देता है.

विस्तार – जो गया वह तो अतीत हो गया, जो चल रहा हैं वह वर्तमान हैं, कुछ क्षण बाद यह भी अतीत हो जायेगा. आज आप जिसको भविष्य कह रहे हैं, वह भी एक दिन अतीत बन जायेगा. समय सबको मारकर आगे बढ़ रहा हैं. कभी रुको मत, आगे बढ़ते चलों.

अपने कर्तव्य को बखूबी निभायें, कुछ करना कुछ न करने से बेहतर हैं.

विस्तार – हमारा उद्देश्य यह होना चाहिए कि हमें कुछ न कुछ करते रहना चाहिए. कुछ करना इसलिए बेहतर हैं क्योंकि कुछ करने से आपको कुछ अनुभव मिलेगा.

Krishna Bhakti Quotes in Hindi

मन चंचल है. हर बार जब मन गलत व्यवहार करता है, तो यह आपकी बात नहीं मानेगा, अपनी वीवेकशील बुद्धि का उपयोग करके इसे सम स्थिति में वापस लाएं.

विस्तार – आपका मन काबू में हो सकता हैं और नहीं भी हो सकता हैं. इसके परिणाम अलग अलग हैं. अगर आपका मन आपकी नहीं सुनता हैं तो कुछ समय बाद जब वह उल्टा सीधा काम करने के बाद शांत होगा, तो आपको बड़ा दुःख होगा. अगर आप अपने मन को अपने अनुसार चलाते हैं तो आप वहीँ करेंगे जो आप करना चाहते हैं, फिर इसमें विवाद का कोई विषय नहीं होगा.

कुछ अच्छा हो – इस उद्देश्य से अगर कोई काम शुरू करता हैं, तो आने वाले समय में इसका अंत कभी बूरा नहीं होगा.

विस्तार – आपका अंतिम लक्ष्य क्या हैं, या आपके काम को लेकर आपकी नियति कैसी हैं. इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है. यकीन मनकर चलिए अगर आपने कुछ अच्छा हो यह सोचकर किसी काम की शुरुआत की हैं तो निश्चित ही इसका सकारात्मक परिणाम मिलेगा.

इंद्रियों से मिटने वाली प्यास पहले अमृत जैसी लेकिन बाद में जहर क सामान लगती हैं.

विस्तार – क्षणिक सुख और दुःख सबसे भयानक होता हैं. एक पल में मिलने वाली ख़ुशी आपको ज्यादा देर तक खुस नहीं रख सकती हैं. हमारी इन्द्रियां दर दर भटकती हैं, कुछ न कुछ वह ढूढती रहती हैं, जहाँ कोई मौका मिले वहां तृप्ति कर लेती हैं. उस वक्त या उस एक क्षण के लिए आपको अमृत का स्वाद मिल सकता हैं. लेकिन अंत में आपको इसका पछतावा करना पड़ेगा. जितना आपने मधुर स्वाद चखा हैं, उसके बराबर आपको विष भी पीना पड़ेगा.

मैंने आपको बनाते समय कोई गलती नहीं की. आपको अपने आप को वैसे ही देखने की जरूरत है जैसे मैं आपको देखते हैं.

krishna anmol vachan image

विस्तार – भाग्य का साथ न देना, मेहनत का फल न मिलना इन सब का दोष हम भगवान् पर लगाते हैं. यह गलत हैं. भगवान् ने हम सभी को बराबर संसाधन दिए हैं, हा हो सकता है किसी को कुछ ज्यादा अमीर बना दिया हो या किसी को शरीर से अपांग बना दिया हो लेकिन इसका भी एक विशेष कारण होता हैं. जो मिला है उसको स्वीकारें, भगवान् भी आपको इसी स्थिति में देखना चाहते हैं.

कृष्ण में आस्था सबसे अच्छा और सुरक्षित मार्ग है.

बदलाव इस संसार का प्रथम नियम है. एक क्षण में तुम कोटियों के मालिक हो सकते हो जबकि उसी क्षण तुम एक निर्धन भी बन सकते हों.

Krishna Bhakti Quotes in Hindi

आकर्षण कभी प्यार का आधार नहीं हो सकता, जो वास्तव में प्रेम करता हैं उसमे दिव्यता और शुद्धता होती हैं.

शांति, नम्रता, मौन, संयम और पवित्रता: ये मन के अनुशासन हैं.

सब कुछ मुझ से ही शुरू होता हैं, इनका मध्यस्त मैं ही हूँ, और अंत भी मैं ही हूँ.

जो कर्म में अकर्म देखता है और अकर्म में कर्म देखता है, वह चतुर है.

आप बेवजह चिंता क्यों करते हो? आप किससे डरते हैं? आपको कौन मार सकता है? आत्मा न तो जन्म लेती है और न ही मरती है.

श्री कृष्णा सर्वश्रेष्ठ सुविचार

खुशी हमारे भीतर की एक अवस्था हैं, भौतिक दुनिया का इससे कोई संबंध नहीं हैं.

अपना दिल अपने काम पर लगाओ, इसके इनाम या परिणाम पर कभी नहीं.

हम तब तक नहीं हारते जब तक हम कृष्ण को नहीं छोड़ते.

जब कभी इस लोक में अधर्म की महिमा पनपने लगती हैं और धर्म का विनाश होता हैं तो मैं अपने आप ही निकल आता हूँ.

डरो मत, जो वास्तविक नहीं है, वह न कभी था और न कभी होगा.जो सच है, वह हमेशा से था और कभी नष्ट नहीं किया जा सकता.

 कृष्ण अपने भक्तों को धोखा देने की कोशिश करने वालों के लिए सबसे बड़े धोखेबाज हैं, अगर कोई व्यक्ति कृष्ण के एक भक्त को एक बार भी धोखा देता है, तो कृष्ण कई जन्मों के लिए धोखेबाज को धोखा देंगे.

Krishna Vachan

श्रीकृष्ण के चरणकमल इतने अद्भुत हैं कि जो कोई भी उनके नीचे आश्रय लेता है वह तुरंत शुद्ध हो जाता है.

सब कुछ कृष्ण पर निर्भर है. वह देवत्व का सर्वोच्च व्यक्तित्व है.

कृष्ण के अलावा कभी किसी पर पूरा भरोसा मत करो. लोगों से प्यार करो, लेकिन अपना पूरा भरोसा सिर्फ कृष्ण पर रखो.

अपने मन को व्यथित मत होने दो, कृष्ण पर विश्वास करो.

सबसे दिव्य प्रेम माता और पुत्र का है.

जिस दिन हम कृष्ण के प्रति पूर्ण समर्पण कर देंगे, वे हमारे प्रेम के प्रस्ताव को स्वीकार कर लेंगे.

Mahabharat Krishna Quotes in Hindi

अपने काम पर अपना दिल लगाओ, लेकिन उसके परिणाम और इनाम पर कभी नहीं.

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है. जैसा वह मानता है, वैसा ही वह बन जाता है.

आत्म-नियंत्रित आत्मा, जो आसक्ति या विकर्षण से मुक्त होकर, विषयों के बीच चलती है, वह शाश्वत शांति प्राप्त करती है.

जिन्होंने अपने आप पर विजय प्राप्त कर ली है, उनके लिए इच्छा एक मित्र है. लेकिन जिन्होंने खुद के अन्दर खुद को नहीं पाया उनके लिए इच्छा सबसे बड़ा शत्रु हैं.  

शरीर से आत्मा का संबंध कपडे के सामान हैं. जिस तह आप कपडे बदलते हैं उसी तरह, एक दिन आपकी आत्मा भी शरीर बदल देगी.

अपने कर्तव्य में कभी दोष मत देखो, अगर जो कोई उनमे दोष देखता हैं, उनकी हर गतिविधि दोषों से घिरी होती है जैसे आग धुएं से घिरी होती है.

श्री कृष्ण के अनमोल वचन

किसी और के जीवन की नकल को पूर्णता के साथ जीने की तुलना में अपने भाग्य को अपूर्ण रूप से जीना बेहतर है.

प्रत्येक व्यक्ति में ईश्वर का निवास हैं कोई उससे अछुता नहीं हैं.

उपहार शुद्ध होता है जब इसे सही समय और सही जगह पर दिल से सही व्यक्ति को दिया जाता है, और हम बदले में कुछ भी उम्मीद नहीं करते हैं.

अपनी इच्छा की शक्ति से अपने आप को नया आकार दें, अपने आप को कभी भी स्व-इच्छा से नीचा न होने दें. इच्छा ही आत्मा की एकमात्र मित्र है, और इच्छा ही स्वयं की एकमात्र शत्रु है.

दिव्य प्रेम तब होता हैं जब आप किसी से प्रेम करते हैं और बदले में कुछ भी उम्मीद नहीं पालते हैं. 

लोग मुझको प्राप्त कर सकते हैं – केवल प्रेम के माध्यम से.

Inspirational Krishna Quotes in Hindi

श्री कृष्ण कहते हैं कि – हमें अपने कर्मों को कड़ी लगन, श्रद्धा और सच्ची भक्ति से करना चाहिए. और संबंधित परिणाम या फल की अपेक्षा किए बिना इसको भाग्य पर छोड़ दें. अगर आपकी नीयत अच्छी है तो आपको सफलता पाने से कोई नहीं रोक सकता.

अगर परम सत्य जानने की इच्छा रखते हो तो इस नश्वर शरीर के बारें में सोचना छोड़ दो. इस आत्मा के बिना इस शरीर का कोई अस्तित्व नहीं है.

तू करता वही है जो तू चाहता है, फिर होता वही है जो मैं चाहता हूं. तू वही कर जो मैं चाहता हूं, फिर होगा वही जो तू चाहता है.

कर्म का फल व्याक्ति को उसी प्रकार ढूढ़ लेटा है जिस प्रकार सैकडो गायों में कोई बच्चा अपनी मां को ढूंढ लेता है.

तुमको तुम्हारे द्वारा किये गए कर्म का फल भोगना ही पड़ता है, तुम परिणामों से भाग नहीं सकते, परिणाम की उपेक्षा नहीं कर सकते, और अपने उन कार्यों को पूर्ववत नहीं कर सकते जिनके कारण वे उत्पन्न हुए. तुम केवल इतना कर सकते हैं कि इनको सीख कर आगे के कर्मो को सुधार सकते हों.

आत्मा न जन्म लेती है न मरती है, न ही इसे जलाया जा सकता है न ही पानी से गीला किया जा सकता है. आत्मा अमर हैं आत्मा अविनाशी है.

Krishna Thoughts on Life in Hindi

हम यह शरीर नहीं हैं, न ही मन हैं, हम इस नाशवान शरीर में रहने वाले एक शांतिपूर्ण और नश्वर जीवित आत्मा हैं.

जीवन ना तो भविष्य में है न अतीत में है, जीवन तो बस इस पल में है.

अपने जीवन के हर पल को जियो. अतीत के विषयों को सोचकर इस जीवन को बर्बाद मत करों. अतीत को न तो बदला जा सकता हैं न ही दोहराया जा सकता हैं.

जैसे तेज हवा पानी पर नाव को बहा ले जाती है, वैसे ही घूमने वाली इंद्रियों में से एक भी जिस पर मन केंद्रित होता है, वह मनुष्य की बुद्धि को दूर ले जा सकती है.

आपको अपना निर्धारित कर्तव्य करने का अधिकार है, लेकिन आप कर्म के फल के हकदार नहीं हैं. अपने कार्यों के परिणामों का कारण स्वयं को कभी न समझें, और कभी भी अपने कर्तव्य को न करने के प्रति आसक्त न हों.

अनुकूल परिणाम की आशा में किया गया प्रत्येक कार्य व्यर्थ है. जीवन के लिए श्री कृष्ण उद्धरण हमें कर्म पर ध्यान केंद्रित करने और आराम करने के लिए प्रेरित करते हैं. आप जिस चीज के लायक हैं, वह आपके रास्ते में आएगी चाहे आप इसे चाहते हों या नहीं.

कृष्ण शुभ विचार

तुम्हारी पीड़ा के लिए मेरे पास एक उद्देश्य है, तुम्हारे संघर्ष का एक कारण है, और तुम्हारी सच्चाई का प्रतिफल है. मेरा विश्वास करो और हार मत मानो.

बिना शर्त प्यार करना, बिना इरादे के बात करना, बिना कारण और बिना उम्मीद के देना, यही सच्चे प्यार की भावना है.

मैं अपनी तरफ से किसी का भाग्य निर्माण नहीं करता हूँ, हर व्यक्ति अपना भाग्य खुद बनता हैं. इसलिए पूरी तरह से नियति पर भरोसा करना कदापि उचित नहीं हैं.

तुम आज जो कर रहे हो, उसका फल कल प्राप्त होगा. जो आज तुम्हारा भाग्य है वो तुम्हारे पहले किए गए कर्म का फल है.

ऐसा कोई व्यक्तित्व नहीं होता हैं, जो किसी को योग्य बनाती हैं, सब कुछ उसकी सोच पर निर्भर करता हैं. इसलिय स्वयं को जानो, जान जाओगे की आप क्या हो.

व्यक्ति जो चाहे बन सकता है यदि वो विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगतार चिंतन करे.

Kanha Motivational Quotes in Hindi

प्रेम में कोई व्यापार नहीं होता, प्रेम ही अंतिम योग है.

जो यह जानता है कि सुख भीतर से उत्पन्न होता है, वह परमात्मा से जुड़ने के लिए जीवन के वास्तविक सत्य को जानता है. यदि आप वह करने के लिए स्वतंत्र हैं जो आप करना चाहते हैं और जो आपका दिल करना चाहता है, तो आप वास्तव में मुक्त हैं.

क्रोध से अतयंत मूड भाव उत्पन हो जाता है, मूड भाव से स्मृति में भ्रम हो जाता है, स्मृति में भ्रम हो जाने से बुद्धि और ज्ञान शक्ति का नाश हो जाता है, जब बुद्धि का नाश हो जाता हैं तो इंसान गिर जाता हैं.

 मेरे प्रेम से, आनंदित आत्मा से कोई कितना अनिर्वचनीय आनंद पाता है. एक बार जब वह आनंद प्राप्त हो जाता है, तो सभी सांसारिक सुख शून्य हो जाते हैं.

मैं अपने भक्तों द्वारा शुद्ध प्रेम में दिए गए छोटे से छोटे उपहार को भी महान मानता हूं, लेकिन गैर-भक्तों द्वारा दिया गया महान प्रसाद भी मुझे प्रसन्न नहीं कर सकता हैं.

धन्य है मनुष्य जन्म, स्वर्गवासी भी इस जन्म की कामना करते हैं, क्योंकि सच्चा ज्ञान और शुद्ध प्रेम मनुष्य को ही मिल सकता है.

जो कर्म बिना किसी प्रतिफल की इच्छा रखने वाले के द्वारा प्रेम या घृणा के बिना किया जाता है – वह कार्य सात्त्विक घोषित किया जाता है.

इनको भी पढ़े -:

डाकू और बुद्ध की कहानी

जीवन की सच्चाई क्या हैं? क्या आप जानते हैं?

Now Your Turn About…..Lord Krishna Quotes in Hindi

कृष्ण भक्ति से ओत-प्रोत सुविचार भंडार में आपके एक से बढ़कर एक श्री कृष्णा के अनमोल और सर्वश्रेष्ठ सुविचार( Krishna Quotes in Hindi ) पढ़े. हमें आपकी आस्था पर पूरा भरोसा हैं. जीवन को बदलने के लिए एक सुविचार ही काफी हैं, इसलिए आप ज्यादा नहीं केवल एक सुविचार को अपने जीवन में जरूर अपनाएं. आप krishna quotes images को डाउनलोड कर शेयर कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.