phishing-meaning-in-hindi

Phishing attack meaning in hindi फिशिंग क्या है| जाने बचने का तरीका

Jump On Query -:

Phishing Attack meaning in hindi, फिशिंग अटैक कैसे होता है, इससे बचने के उपाय

Phishing attack meaning in hindi – फिशिंग का मतलब आमतौर पर मछली पकड़ना होता है. लेकिन डिजिटल भाषा फिशिंग का मतलब जालसाजी या किसी की पर्सनल जानकारी इक्कठा करना और उसके साथ वित्तीय धोखाधड़ी करना होता है. जिस तरह एक मछली पकड़ने वाला चारा लगा कर मछली को फंसाता है. ठीक उसी तरह साइबर अपराधी भी लुभावने ऑफ़र दिखा कर उसे अपना शिकार बना लेते है.

फिशिंग अटैक एक प्रकार का सोशल इंजीनियरिंग हमला है, जो पीड़ितों के निजी या कॉर्पोरेट खातों को हैक करने और उनकी पर्सनल जानकारी जुटाने और हेरफेर करने के कई तरीकों का वर्णन करने का एक छत्र शब्द है. फेक अटैचमेंट या लिंक की मदद से हैकर आपके सिस्टम में मैलवेयर जैसे वायरस अपलोड कर लेते है.

इस आर्टिकल में जानने के लिए क्या है

  • phishing attack meaning in hindi (फिशिंग क्या है)
  • How does phishing works in hindi
  • फिशिंग के प्रकार
    • Smishing/ voice phishing meaning in hindi
    • Vishing meaning in hindi
    • Search engine phishing in hindi
    • spear phishing meaning in hindi
    • Whaling phishing attack in hindi
    • E mail phishing meaning in hindi
  • फिशिंग हमलों के उदहरण
  • फिशिंग हमलों के मुख्य तत्व/ वाहक
  • Phishing attack की पहचान कैसे करे
  • टॉप 10 Anti Phishing Software

फिशिंग अटैक क्या है? (phishing meaning in hindi)

फिशिंग एक प्रकार का साइबर अपराध है. कोई भी हमलावर एक भरोसेमंद प्लेटफार्म जैसे आपका बैंक या कोई पोपुलर वेबसाइट, के रूप में एक हमलावर द्वारा पीड़ितों से संपर्क किया जाता है. जिसमें पीड़ित की सेंसेटिव जानकारी या डेटा, जैसे बैंक अकाउंट नंबर, लॉगिन क्रेडेंशियल, क्रेडिट कार्ड विवरण, या अन्य रूप से पहचान योग्य जानकारी प्राप्त करने की मांग करते है. फिशिंग करने वाला आमतौर पर आपसे निम्नलिखित जानकारी की मांग करते है.

  • बैंक अकाउंट डिटेल्स
  • फोन नंबर
  • क्रेडिट कार्ड के विवरण
  • होम एड्रेस
  • जरुरी पासवर्ड

फिशिंग अटैक, सोशल इंजीनियरिंग का एक उदाहरण है. सोशल इंजिनियरिंग भी एक वर्ड है. जिसका इस्तेमाल साइबर क्राइम में होता है. तकनीकों का एक संग्रह जो घोटालेबाज कलाकार मानव मनोविज्ञान में हेरफेर करने के लिए उपयोग करते हैं. सोशल इंजीनियरिंग तकनीकों में जालसाजी, गलत दिशा और झूठ शामिल हैं – ये सभी फ़िशिंग हमलों में एक भूमिका निभा सकते हैं. बुनियादी स्तर पर, फ़िशिंग ईमेल उपयोगकर्ताओं को बिना सोचे-समझे कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सोशल इंजीनियरिंग का उपयोग करते हैं.

साइबर अपराधी जिस डेटा का पीछा करते हैं, उसमें व्यक्तिगत पहचान योग्य जानकारी (PII) – जैसे वित्तीय खाता डेटा, क्रेडिट कार्ड नंबर और कर और मेडिकल रिकॉर्ड-साथ ही संवेदनशील व्यावसायिक डेटा, जैसे ग्राहक नाम और संपर्क जानकारी, मालिकाना उत्पाद रहस्य और गोपनीय संचार शामिल हैं.

How does phishing works? (फिशिंग कैसे की जाती है)

फिशिंग में एक हमलावर पीड़ित को एक लिंक पर क्लिक करने या एक अटैचमेंट डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करना होता है. पीड़ित द्वारा उस फर्जी लिंक या अटेचमेंट पर क्लिक करने पर उसके मोबाइल पर मैलवेयर अपलोड हो जाता है. यह रैंसमवेयर हमले के हिस्से के रूप में पीड़ित के सिस्टम को हैक कर लेता है.

Types of phishing attack in hindi

सामान्य प्रकार के फ़िशिंग हमलों में निम्नलिखित phishing attack शामिल हैं.

Spear phishing meaning in hindi

स्पीयर फिशिंग, फिशिंग अटैक का ही एक प्रकार है. स्पीयर फिशिंग में हमलावर एक विशिष्ट समूह या व्यक्तियों को टारगेट करता है. ठीक उसी तरह जैसे वह कंपनी का सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर हो. और फेक ई मेल के जरिए इन्हें उस वेबसाइट को हुबहू दिखता है. ये ईमेल पीड़ित के नाम, स्थिति, कंपनी, कार्य, फोन नंबर और अन्य जानकारी के साथ अनुकूलित किए जाते हैं. जो प्राप्तकर्ता को यह विश्वास दिलाने में मदद करता हैं कि, वे एक जेन्युइन प्रेषक हैं. जो वे होने का दावा करते हैं. लिंक्डइन जैसी सोशल मीडिया साइटों में इस तरह के स्पीयर फिशिंग अटैक नॉर्मल है. जहां हमलावर टार्गेटेड लोगो की ईमेल बनाने के लिए विभिन्न डेटा स्रोतों का उपयोग करते हैं.

Vishing attack meaning in hindi

विशिंग या वौइस् फिशिंग, फिशिंग अटैक के समान टेलीफोन है. इसे वौइस् फिशिंग भी कहाँ जाता है. इस प्रकार की फिशिंग अटैक सबसे अधिक देखी जाति है. इसमें हमलावर द्वारा पीड़ित को कॉल किया जाता है. जिसमे वह दावा करता है कि, वह किसी सरकारी डिपार्टमेंट जैसे कर विभाग, पुलिस, या पीड़ित के बैंक से बोल रहा है. और पीड़ित को यह समझाने की कोशिश करता है कि इस समस्या को ठीक करने के लिए उनसे मांगी जा रही जानकारी प्रदान करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है.

असल में ऐसी कोई समस्या आपके साथ में नही होती. वह आपको बहला रहा होता है. यही नही हमलावर पीड़ितों पर जोर देते हुए कह सकते हैं कि, अगर वे समस्या का जवाब नहीं देते हैं, तो उन्हें आपराधिक आरोपों का सामना करना पड़ेगा, उनका बैंक खाता बंद कर दिया जाएगा, या अन्य, गंभीर परिणाम होंगे. ऐसे में पीड़ित डर जाता है और वह अपनी सारी डिटेल्स बता देता.

Search Engine phishing attack in hindi

सर्च इंजन फिशिंग अटैक क्या है. फिशिंग इस मायने में अद्वितीय है कि हमलावर लक्षित ईमेल भेजने में परेशान नहीं होता है. इसके बजाय, हमलावर एक ऐसी वेबसाइट बनाता है. जो सस्ते उत्पाद और लुभावनेऑफर पेश करती है. इस वेबसाइट को गूगल क्रॉल (सबमिट) कर किया जाता है. और फिर वैध खोज इंजनों द्वारा इसे इंडेक्स किया जाता है. जब एक पीड़ित या शिकार उस फेक वेबसाइट पर क्लिक करता है, यह सोचकर कि, यह एक जेन्युइन पेज है. अब इस फेक वेबसाइट के जरिए, वह उपयोगकर्ताओं को अपनी व्यक्तिगत जानकारी दर्ज करने के लिए उकसाएगा.

Whaling phishing attack in hindi

व्हेल एक कंपनी से किसी संवेदनशील जानकारी चुराने के लिए की जाती है. इसमें कम्पनी के उच्च स्तरीय कर्मचारियों कोटारगेट किया जाता है. एक व्हेलिंग हमलावर एक वरिष्ठ कार्यकारी जैसे सीईओ या सीएफओ के रूप में एक वैध दिखने वाला ईमेल भेजता है, जिसका उद्देश्य पीड़ित को बड़ी मात्रा में धन को वायर ट्रांसफर करने के लिए अधिकृत करना या मैलवेयर अपलोड करने वाले अटैचमेंट या लिंक पर क्लिक करना होता है. व्हेलिंग का लक्ष्य कम्पनी का पैसा और संवेदनशील जानकारी प्राप्त करना होता है. यह जानकारी हमलावर को कंपनी की बौद्धिक संपदा, इम्पोर्टेड डेटा, या अन्य जानकारी तक पहुंच प्रदान करा सकती है. और यही डेटा बेचकर हमलावर पैसे कमाते है.

Smishing/ voice phishing meaning in hindi

दरअसल एसएमएस फिशिंग को ही स्मिशिंग कहा जाता है. स्मिशिंग में हमलावर शॉर्ट, स्मिशिंग फर्जी टेक्स्ट मैसेज भेजने के लिए शॉर्ट मैसेज सर्विस (एसएमएस) सिस्टम का इस्तेमाल करता है. स्मिशिंग स्कैम अक्सर टेक्स्ट संदेश प्राप्तकर्ता को किसी वेबसाइट पर जाने या फोन नंबर पर कॉल करने के लिए निर्देशित करने की कोशिश करते हैं, जहाँ पर पीड़ित को बैंक अकाउंट, क्रेडिट कार्ड विवरण या पासवर्ड जैसी संवेदनशील जानकारी प्रदान करने के लिए लुभाया जाता है. स्मिशिंग का प्रयोग, वेबसाइटस से मैलवेयर को पीड़ित के कंप्यूटर को संक्रमित करने का प्रयास करने के लिए किया जाता है.

E mail phishing meaning in hindi

ज्यादातर साइबर अपराधी फिशिंग ई मेल का उपयोग करते हैं क्योंकि यह आसान, सस्ता और अधिक प्रभावी है. ई मेल पते प्राप्त करना आसान है, और ईमेल भेजने के लिए निःशुल्क हैं. थोड़े से प्रयास और कम लागत के साथ, हमलावर जल्दी से मूल्यवान डेटा तक अपनी पहुँच प्राप्त कर सकते हैं. जो लोग फिशिंग घोटाले के लिए आते हैं, वे मैलवेयर संक्रमण (रैंसमवेयर सहित), पहचान की चोरी और डेटा हानि के साथ समाप्त हो सकते हैं.

अधिकांश फिशिंग हमले ई मेल के माध्यम से भेजे जाते हैं. हमलावर आमतौर पर नकली डोमेन नाम दर्ज करते हैं जो वास्तविक संगठनों या प्लेटफार्म की नकल करते हैं और पीड़ितों को हजारों सामान्य अनुरोध भेजते हैं.

फेक डोमेन के लिए, हमलावर अक्षर जोड़ या बदल सकते हैं (जैसे sbibank.com के बजाय sbi-bank.com), उप डोमेन (जैसे sbibank.host.com) का उपयोग कर सकते हैं. या ईमेल उपयोगकर्ता नाम के रूप में विश्वसनीय संगठन के नाम का उपयोग कर सकते हैं (जैसे [email protected] कॉम).

कई फिशिंग ईमेल तत्कालता, या खतरे की भावना का उपयोग करते हैं, जिससे उपयोगकर्ता ईमेल के स्रोत या प्रामाणिकता की जांच किए बिना जल्दी से उसके बताए फॉलो कर सके.

ईमेल फिशिंग संदेशों में निम्न में से एक लक्ष्य होता है

व्यक्ति या उपयोगकर्ता को अपने डिवाइस पर मैलवेयर इंस्टॉल करने के लिए किसी दुर्भावनापूर्ण वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करवाना.
उपयोगकर्ता को एक संक्रमित फ़ाइल डाउनलोड करने और मैलवेयर को परिनियोजित करने के लिए इसका उपयोग करने के लिए प्रेरित करना.
उपयोगकर्ता को एक नकली वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करने और व्यक्तिगत डेटा जमा करने के लिए उत्साहित करना.

कुछ फिशिंग ईमेल खराब कॉपी राइटिंग और फोंट, लोगो और लेआउट के अनुचित उपयोग के कारण पहचाने जा सकते हैं. हालांकि, कई साइबर अपराधी प्रामाणिक दिखने वाले संदेश बनाने में अधिक परिष्कृत होते जा रहे हैं, और अपने ईमेल की प्रभावशीलता का परीक्षण और सुधार करने के लिए पेशेवर मार्केटिंग तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं.

फिशिंग हमलों के सामान्य उदाहरण

यहाँ कुछ phishing attack के उदाहरण दिए गए है. जयादातर हमलावर इन तरीको से किसी पीड़ित को फंसाता है. जैसे

  1. खाता निष्क्रिय करना – इसमें अपराधी पीड़ित को एक फेक ईमेल भेजता है. जो पीड़ित को बताता है कि, उनके खाते से छेड़छाड़ की गई है और जब तक वे अपने क्रेडिट कार्ड क्रेडेंशियल की पुष्टि नहीं करते हैं, तब तक उन्हें निष्क्रिय कर दिया जाएगा. ऐसे में पीड़ित को फोर्स किया जाता है अपने क्रेडिट कार्ड डिटेल्स डालने के लिए.
  2. समझौता क्रेडिट कार्ड – यदि कोई हमलावर जानता है कि पीड़ित ने हाल ही में कोई खरीदारी की है. तो हमलावर हाल की खरीदारी की कंपनी से ग्राहक सहायता के रूप में उसकी मिलती जुलती एक ईमेल भेजेगा. ईमेल पीड़ित को बताता है कि उनके क्रेडिट कार्ड से छेड़छाड़ की गई हो सकती है और उनकी साख की पुष्टि करने के लिए. आप अपने कार्ड की जानकारी जैसे अकाउंट नंबर, CVV, वेलिडिटी डेट आदि.
  3. फंड ट्रांसफर करें – इसमें साइबर अपराधी स्वयं को कम्पनी का सीईओ बता कर उसके कर्मचारीयों को फेक ई मेल भेजता है. नकली सीईओ ईमेल प्राप्तकर्ता से तत्काल फंड/ पैसा ट्रांसफर के लिए कहता है.
  4. सोशल मीडिया – एक संभावित पीड़ित कुछ पारस्परिक मित्रों वाले किसी व्यक्ति से फेसबुक मित्र अनुरोध स्वीकार करता है. हमलावर उस नव स्वीकृत मित्र संभावित पीड़ित को एक वीडियो के लिंक के साथ एक फेसबुक संदेश भेजता है. जब लिंक पर क्लिक किया जाता है, तो मैलवेयर इंस्टॉल हो जाता है. मैलवेयर एक ऐसा वायरस है जो, आपके पुरे सिस्टम को हैक कर लेता है.
  5. Google लॉगिन करे – Google समर्थन के रूप में प्रस्तुत एक ईमेल का दावा है कि, उन्होंने अपनी लॉगिन क्रेडेंशियल नीति को अपडेट कर दिया है. हमलावर संभावित पीड़ित को अपने Google अकाउंट की जानकारी की पुष्टि करने के लिए कहता है. प्रेषक ईमेल जीमेल पते के समान है, जैसे [email protected]
  6. तकनीकी सहायता कम्पनी – इसमें हमलावर द्वारा कर्मचारियों को उनके आईटी विभाग से एक फेक ईमेल भेजी जाती है. जिसमें उन्हें नया इंस्टेंट मैसेजिंग सॉफ़्टवेयर इंस्टाल करने के लिए कहा जाता है. जब कर्मचारी सॉफ़्टवेयर इंस्टाल करते हैं, तो कंपनी नेटवर्क पर रैंसमवेयर अपलोड हो जाता है. रैंसमवेयर भी एक तरह का वायरस होता है, जो सिस्टम को हैक कर लेता है.

फिशिंग हमलों के मुख्य तत्व/ वाहक

फिशिंग हमलों में जिन तत्वों या वाहको का प्रयोग होता है. वे निम्न है. फिशिंग हमले के मुख्य तत्व ई मेल, सोशल मीडिया या अन्य इलेक्ट्रॉनिक संचार माध्यमों द्वारा भेजा गया संदेश है.

Phishing attack की पहचान कैसे करे

अब आपको यह जानना जरुरी है कि, आप किसी phishing attack की पहचान कैसे करेंगे. फिशिंग हमलो को रोकने के लिए, आपका इसको पहचान ने में सक्षम होना ज़रूरी है. फिशिंग हमलों में आम तौर पर समान विशेषताएं होती हैं जिन्हें पर्सनल डाटा को चोरी होने से रोकने के लिए देखा जा सकता है, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं.

1. ऐसे ऑफ़र या लुभावने मेसेजेज से बचें जो अविश्वसनीय कुछ पेश करते हैं. जैसे आपने 25 लाख की लॉटरी जीती है. पैसे पाने के लिए बैंक डिटेल्स डाले. यहाँ पर हमलावर पीड़ित को एक भव्य पुरस्कार के विजेता के रूप में घोषित करते हैं, भले ही उन्होंने किसी प्रतियोगिता में प्रवेश नहीं किया हो. ऐसे मेसेज आने पर आप ध्यान रखे कि अपनी बैंक डिटेल्स या किसी प्रकार की जानकारी न दे.

2. उन मेसेजेज से सावधान रहें जो आपको तेजी से कार्य करने के लिए कहते हैं उदहरण के लिए आपने iphone जीत लिया है. आपके पास कलेक्ट करने के लिए केवल दस सेकंड है. ध्यान रखे कि, अधिकांश विश्वसनीय संगठन जैसे अमेज़न या फ्लिप्कार्ट आपको जवाब देने के लिए बहुत समय देते हैं और इंटरनेट पर कभी भी अद्यतन व्यक्तिगत विवरण नहीं मांगते हैं. इसलिए ऐसे करने से बचे.

3. फिशिंग ईमेल में शामिल एक लिंक को आम तौर पर एक प्रतिष्ठित कंपनी के लिंक के समान दिखने के लिए बनाया जाता है. ईमेल में किसी लिंक पर होवर करने से वह URL दिखाई देगा जिस पर क्लिक करने के बाद आपको निर्देशित किया जाएगा. लिंक पर क्लिक करने के बजाय, उस पर होवर करें और गलत वर्तनी के लिए उसका निरीक्षण करें. उदाहरण के लिए, “www.anazon.com” www.amazon.com जैसा दिखता है, लेकिन पहले वाले पर क्लिक करने से आपके कंप्यूटर पर मैलवेयर इंस्टॉल हो सकता है.

4. ऐसे किसी भी अटैचमेंट (pdf या कोई डॉक्यूमेंट) को न खोलें जो किसी अनजान व्यक्ति द्वारा भेजी गयी है. फिशिंग हमलावरों द्वारा भेजे गए अटैचमेंट में अक्सर रैंसमवेयर या अन्य वायरस होते हैं. मात्र उस पर क्लिक करने पर वायरस आपके सिस्टम में अपलोड हो जाता है. ऐसे में बचने का तरीका यह है कि, वह फाइल किस टाइप की है. एकमात्र फ़ाइल जिस पर क्लिक करना हमेशा सुरक्षित होता है, वह है (.txt) फ़ाइल.

5. यदि ईमेल आपके संगठन के बाहर के किसी व्यक्ति से भेजा गया है, तो यह आपकी नौकरी की जिम्मेदारियों से संबंधित नहीं है, या डोमेन संदिग्ध लगता है, लिंक पर क्लिक करने या अटैचमेंट खोलने से बचें.

6. आपके द्वारा किसी हमलावर को अपनी जानकारी भेजने के बाद, संभवतः अन्य स्कैमर को इसका खुलासा किया जाएगा. आपको संभवत: विशिंग और स्मिशिंग संदेश, नए फ़िशिंग ईमेल और वॉयस कॉल आएंगे. आपकी जानकारी या वित्तीय विवरण मांगने वाले संदिग्ध संदेशों के लिए हमेशा सतर्क रहें.

टॉप 10 एंटी फिशिंग सॉफ्टवेयर

एंटी फिशिंग सॉफ्टवेयर क्या होते है? एंटी फिशिंग सॉफ़्टवेयर वेबसाइटस, ईमेल और ऑनलाइन संचार के अन्य रूपों में अवांछित फिशिंग सामग्री को पहचानने और उन्हें ब्लॉक करने का काम करते है. जिसका उपयोग डेटा तक पहुँचने के लिए किया जा सकता है. सॉफ़्टवेयर आमतौर पर उपयोगकर्ता को किसी दुर्भावनापूर्ण ईमेल या साइट के संपर्क में आने पर चेतावनी देता है. यह सॉफ़्टवेयर अक्सर वेब ब्राउज़र और ईमेल क्लाइंट के साथ टूलबार में एकीकृत होता है.

टॉप 10 एंटी फिशिंग सॉफ़्टवेयर प्रदाताओं में शामिल हैं

  1. Area 1 Horizon Anti-Phishing Service 
  2. Avanan Cloud Email Security
  3. Cofense
  4. IRONSCALES
  5. SpamTitan Email Security
  6. GreatHorn
  7. Agari Phishing Defense
  8. Proofpoint Email Security and Protection
  9. Zerospam
  10. DuoCircle

FAQ’s (phishing meaning in hindi)

फिशिंग कब सफल होती है

फिशिंग तब सफल होती है जब हमलावर लोगों को धोखा देने के लिए डिज़ाइन किए गए दुर्भावनापूर्ण ईमेल भेजते हैं. अक्सर उपयोगकर्ताओं को वित्तीय जानकारी, सिस्टम क्रेडेंशियल या अन्य संवेदनशील डेटा प्रकट करने का इरादा होता है. हमलावर द्वारा एक फिशिंग अटैक तब सफल हो जाता है, जब कोई पीड़ित उसकी बनाई फैक लिंक पर क्लिक कर लेता है और उस पर अपनी पर्सनल डिटेल्स दे देता है.

Phishing attacker क्या करते है

फिशिंग हमलावर आपकी जानकारी का क्या दुरप्रयोग कर सकते है. साइबर अपराधी ईमेल, सोशल मीडिया और अन्य खातों तक सीधी पहुंच प्राप्त करने के लिए या पॉइंट ऑफ सेल टर्मिनलों और ऑर्डर प्रोसेसिंग सिस्टम जैसे कनेक्टेड सिस्टम को संशोधित करने और समझौता करने की अनुमति प्राप्त करने के लिए फिशिंग हमलों का भी उपयोग करते हैं. सबसे बड़े डेटा उल्लंघनों में से कई — जैसे हेडलाइन हथियाने वाला 2013 लक्ष्य उल्लंघन — फिशिंग ईमेल से शुरू होता है. एक निर्दोष प्रतीत होने वाले ईमेल का उपयोग करके, साइबर अपराधी एक छोटा सा मुकाम हासिल कर सकते हैं और उस पर निर्माण कर सकते हैं.

ई मेल फिशिंग क्या है?

आमतौर पर, पीड़ित को प्राप्त होने वाले ईमेल किसी ज्ञात संपर्क या संगठन से आते हैं. दुर्भावनापूर्ण अटैचमेंट या दुर्भावनापूर्ण वेबसाइटों के लिंक के माध्यम से हमले किए जाते हैं. हमलावर अक्सर नकली वेबसाइटें स्थापित करते हैं, जो पीड़ित के बैंक, कार्यस्थल या विश्वविद्यालय जैसी किसी विश्वसनीय संस्था के स्वामित्व में प्रतीत होती हैं. इन वेबसाइटों के माध्यम से, हमलावर उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड, या भुगतान जानकारी जैसी निजी जानकारी एकत्र करने का प्रयास करते हैं.

फिशिंग ईमेल की रिपोर्ट कैसे करें?

यदि आपको लगता है कि आप किसी फिशिंग के शिकार हो गए हैं, तो पहला कदम सही लोगों को इसकी रिपोर्ट करना है. आपको अपने बैंक से सम्पर्क करना है, अकाउंट को ब्लॉक कर लेना है. पिन और पासवर्ड बदल लेने है. कॉर्पोरेट नेटवर्क पर, आईटी कर्मचारियों को इसकी रिपोर्ट करना सबसे अच्छा है ताकि वे यह निर्धारित करने के लिए संदेश की समीक्षा कर सकें कि यह एक लक्षित अभियान है या नहीं, व्यक्तियों के लिए, आप पुलिस को धोखाधड़ी और फिशिंग की रिपोर्ट कर सकते हैं।

ट्रैप फिशिंग क्या है?

फ़िशिंग के कई प्रकार हैं, लेकिन लोगों को धोखाधड़ी के जाल में फंसाने का एक प्रभावी तरीका क्या है. वह है एक वैध संगठन से प्रेषक होने का दिखावा करना है. एक फ़िशिंग ट्रैप उपयोगकर्ताओं को परिचित व्यावसायिक संदर्भों का उपयोग करके और एक ऐसी साइट से डिज़ाइन का उपयोग करके एक दुर्भावनापूर्ण वेबसाइट पर ले जाता है. जिसमें उसी प्रकार का इंटरफेस जैसे लोगो, डिज़ाइन और होता है जैसे कि बैंक, ईकॉमर्स, या अन्य लोकप्रिय ब्रांड जिसे लक्षित उपयोगकर्ता पहचानता है. इसे वाटरिंग होल हमले के रूप में भी जाना जाता है.

बैरल फिशिंग क्या है?

टबैरल फिशिंग क्या होता है. इसमें फ़िल्टर से बचने के लिए, एक हमलावर पहले विश्वास स्थापित करने के लिए एक प्रारंभिक सौम्य दिखने वाला ईमेल भेज सकता है, और फिर एक लिंक के साथ दूसरा ईमेल भेज सकता है या संवेदनशील जानकारी के लिए अनुरोध कर सकता है. बैरल फिशिंग हमलावर से अधिक प्रयास लेता है, लेकिन प्रभाव अधिक हानिकारक हो सकता है क्योंकि लक्षित उपयोगकर्ताओं को लगता है कि वे ईमेल भेजने वाले पर भरोसा कर सकते हैं।

फिशिंग ईमेल का पता कैसे लगाएं?

कोई ई मेल फेक है यह कैसे पता लगाए. फिशिंग का मुख्य लक्ष्य क्रेडेंशियल्स (क्रेडेंशियल फ़िशिंग), संवेदनशील जानकारी की चोरी करना या व्यक्तियों को पैसे भेजने के लिए धोखा देना होता है. उन संदेशों या मेसेजेज से हमेशा सावधान रहें जो संवेदनशील जानकारी मांगते हैं या एक लिंक प्रदान करते हैं. जहां आपको तत्काल कोई जानकारी भरने के लिए कहां जाता है.

VFX kya hai in hindi

What is Google Analytics in Hindi

How to type in Hindi using English keyboard

phishing meaning in hindi में आपने क्या सीखा….

इस आर्टिकल में आपने आसान भाषा में जाना कि, फिशिंग क्या है, फिशिंग के प्रकार, इससे बचने के तरीका, टॉप 10 एंटी फिशिंग सॉफ्टवेयर कौन कौन से है. आशा करते है कि यह आर्टिकल आपको जानकारी भरा लगा होगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published.